25 मई 2011

कन्या भ्रुण हत्या ----यह तो नायाब तरीका है?


जिसको देखों वही दूसरे को कोस रहा है। कोई नेताओं को तो कोई भ्रष्ट अधिकारियों को। आज एक संस्था ने कन्या भ्रुण हत्या का सर्वो दिया जिसके अनुसार जिसके पास एक बेटी है वह तब तक भ्रुण हत्या करवाता रहता है जब तक बेटा नहीं हो...

सवाल यह नहीं है कि समाज में यह सब क्यों हो रहा है। मेरे मन तो जो सवाल अन्ना के समय से ही उठ रहा है वह 

यह है कि जितने लोग दूसरे को कोस रहे है क्या उतने लोग भी ईमानदारी से ईमानदार है?

जो लोग कन्या भ्रुण हत्या को लेकर बारबार सवाल उठा रहें है उनमें से कितने है जो दहेज नहीं लेगे.....? या नहीं लिये होगें?

नेताओं को लेकर हमेशा सवाल खड़ा करने वाले समाज में हम अपनी तरफ क्यों नहीं देखते?

ताजा उदाहरण बाबा रामदेव की अनशन का है....बाबा जी अनशन करेगें पर उनके स्वाभिमान संध से जुड़े जिन तीन लोगों को मैं जानता हूं उनमें से एक चिकित्सका के पास प्रति दिन एक एक दर्जन भ्रुण हत्या होती है, दूसरे अब्बल दर्जे का करप्ट पत्रकार है और तीसरा भ्रष्ट बकील ? 

जय हो

दूसरे को बुरा कह कर हम अच्छा हो जाएगें...........यह तो नायाब तरीका है?

7 टिप्‍पणियां:

  1. यही तो रोना है। हम व्यक्तियों पर विश्वास करने लगते हैं। हमें उन के संगठनों को देखना चाहिए।

    जवाब देंहटाएं
  2. जब महाभ्रष्ट और भ्रष्ट में चुनना हो तो आप क्या करेंगे??
    भ्रष्ट को चुनेगें..चुनाव हमारी अनिवार्यता है..बाबा रामदेव को आप अकारण ही लपेटे में ले रहें हैं...
    आप को ये भी मालूम है बाबा के पीछे कांग्रेस,बहुराष्ट्रीय कंपनिया, सीबीआई और बाकि ख़ुफ़िया एजेंसियां हाथ धो के पड़ी हैं..अगर कुछ गलती मिली तो बाबा को अगले दिन सूली पर लटका दें
    हमारी समस्या यही है श्रीमान अगर कोई आगे बढ़ता है तो हम उसकी गलती निकलने लगते हैं..खुद आगे बढ़ने की बात आती है तो जिम्मेदारी का बोझ बता कर मुंह मोड़ लेते हैं..

    जवाब देंहटाएं
  3. @अरुण: इस सामाजिक कलंक के खिलाफ आवाज़ उठाने के लिए शुक्रिया!

    @आशुतोष: बाबा रामदेव के आगे बढ़ने से मुझे कोई शिकायत नहीं, परन्तु उन्हें झूठ का सहारा नहीं लेना चाहिए. उनका कहना कि वो केंसर इत्यादि बीमारियों को ठीक कर सकते है--खोखले वादे हैं. His views on morality of film actresses are ridiculous and his tirade against homosexuals spread hatred.

    जवाब देंहटाएं
  4. यही दिक़्कत है कि लोगों के पास फ़िल्टर तक लगाने की फ़ुर्सत नहीं है. लोगों को बस आगे की दीख रही है पीछे की राम जाने...

    जवाब देंहटाएं
  5. murkh manav jaldi jago
    apna astitv bachana hai to kanyaon ko bachao
    save the girlchild.

    जवाब देंहटाएं

अग्निपथ पे लथपथ अग्निवीर

भ्रम जाल से देश नहीं चलता अरुण साथी सबसे पहले अग्निपथ योजना का विरोध करने वाले आंदोलनकारियों से निवेदन है कि सार्वजनिक संपत्तियों का नुकसान ...