22 जुलाई 2015

राजनीति में सफल होने के नुस्खे ..

(अरुण साथी)
(धोषणा:-यह एक नुस्खे का विज्ञापन है, इसका किसी राजनितिक दल अथवा व्यक्ति से कोई सम्बन्ध नहीं है ।)

विज्ञापन:-

पहले मैं बहुत उदास और बुझा बुझा रहता था । किसी काम में मन नहीं लगता था । अपनी उदासी और कमजोरी की वजह से मैंने घर परिवार त्याग दिया । फिर किसी ने मुझे एक राजनीति नामक नुस्खा दिया । उसका सेवन करते ही मेरे जीवन में क्रन्तिकारी परिवर्तन आये । इस नुस्खे ने मेरा सम्पूर्ण जीवन बदल कर रख दिया ।

इस नुस्खे का सेवन करते ही मैं सिंहगर्जना करने लगा और मेरा नाम शेर सिंह रख दिया गया । सबसे पहले मैंने अच्छे दिन लाने का सपना सबको दिखाया और लोग इसपे भरोसा करने लगे । फिर मैंने पड़ोसियों को चेतावनी दी की वह मेरे घर की तरफ आँख भी उठा कर देखा तो आँख फोड़ दूंगा । फिर मैं धर्म का सार्थक उपयोग करना सिख लिया और इसका मुझे बहुत लाभ मिला ।

फिर मैंने काला धन नामक एक घुन जो अंदर ही अंदर अपने घर को खोखला कर रहा था, उसे ख़त्म करने का एलान किया और इसके लिए मैंने हजारों करोड़ काला घन विज्ञापन पे खर्च किया । इसके आश्चर्यजनक फायदे हुए और मैं रातों रात भगवान् बन गया । भक्त मेरी चरण बंदना करने लगे ।

फिर मुझे सिंघासन मिली और मैं सर्वशक्तिमान हो गया । इसी सिंघासन पे विराजनेवाले अपने प्रतिद्वंदी का ब्रह्म नुस्खा "मौन" को मैंने धारण कर लिया । अब मैं भ्रष्टाचार, पड़ोसियों का दुर्व्यवहार, कालाधन जैसे परम्परागत सिंघासनी दुर्गुणों के साथ मौन व्रत धारण कर शांतिपूर्वक पूर्वक विदेश परिभ्रमण करता रहता हूँ और विरोधियों के सीने पे साँप लोटते रहते है ।

रंडीबाज

रंडीबाज (लघुकथा, एक कल्पकनिक कथा। इस कहानी से किसी व्यक्ति या संस्था को कोई संबंध नहीं है) चैत के महीने में अमूमन बहुत अधिक गर्मी नहीं होत...