05 जुलाई 2011

पत्नी के नाम पर नौकरी करने वाला फर्जी शिक्षक हिरासत में। बीईओ की संलिप्तता से हो रही थी गड़बड़ी।

शेखपुरा शेखोपुरसराय के ओनामा पंचायत के प्राथमिक विद्यालय सीतारामपुर में पत्नी के नाम पर नौकरी करने वाला फर्जी शिक्षक का हिरासत में ले लिया गया। ऐसा जिलाधिकारी को मीडिया के द्वारा दी गई सूचना के बाद त्वरित कार्यवाई की वजह से संभव हो सका। सीतारामपुर प्राथमिक विद्यालय में कई तरह की अनियमितता पाई गई जिसमें प्रधानाध्यपिका अर्चना कुमारी के जगह उसके पति संजय कुमार को नौकरी करते हुए धर लिया गया वहीं एक अन्य शिक्षका सरोज कुमारी पिछले एक साल से गायब है और उसकी उपस्थिति बना दी गई है। इतना ही नहीं स्कूल में उस दिन मात्र दस बच्चों की उपस्थिति थी पर मीड डे मील में गड़गबड़ी करने और रकम को अधिक निकासी को लेकर 54 बच्चों की उपस्थिति रजिस्टर में बनाई गई थी। विघालय की इस गड़बड़ी की सूचना मिलने के बाद जिलाधिकारी ने स्वयं पहल करते हुए अनुमण्डलाधिकारी मंजूर अलि को जांच के लिए भेजा जहां मौके पर ही शिक्षक को पत्नी के जगह नौकरी करते घर लिया गया। मौके पर घरे शिक्षक ने मंजूर अलि को बताया कि बीईओ के मौखिक आदेश के बाद ही सरोज देवी नामक शिक्षका अपने पति के यहां गुजरात चली गई है। इसको लेकर शिक्षक के द्वारा सरोज देवी का कोई छुटटी का आवेदन मांगने पर भी नहीं दिया गया। मनमाने ढंग स ेचल रहे इस विद्यालय को शिक्षक का जब मन होता था तभी खोला जाता था। पिछले दो माह से यह विद्यालय बंद था और इस सोमवार से ही खोला गया है। अनियमितताओं का पुलंदा ही इस विद्यालय में सामने आया है जिसमें बिईओं की संलिप्पता साफ नजर आती है। इस संबध्ंा में जब बिईओ से बात की गई तो उन्होंनों ऐसा कुछ नहीं होने की बात कही जबकि मौके पर घराये शिक्षक ने बिईओ की संलिप्पता से इस तरह का खेल चलने की बात कही। मौके पर छात्र पिन्टू कुमार, बंटी कुमार, विकास कुमार सहित अन्य ने बताया कि विद्यालय में जब भी खुलता है तब मिड डे मिल सही नहीं मिलता और मार भात ही खिलाया जाता है।
मौके पर जब अनुमण्डलाधिकारी ने खद्न्न की वही मांगी जो प्रधानाध्यपिका के घर मे होने की बात कही।

मोनू खान

मोनू खान। फुटपाथ पर बुक स्टॉल चलाते वक्त मित्रता हुई और कई सालों तक घंटों साथ रहा। मोनू खान, ईश्वर ने उसे असीम दुख दिया था। वह दिव्यांग था। ...