07 दिसंबर 2019

जब मैंने उस पागल कुत्ता को मार डाला

बात तीन-चार साल पुरानी है। गांव में एक पागल कुत्ता आ गया। उस कुत्ता को गांव से भगाने में गांव के युवक जुट गए। कुत्ता ने पहले कई लोगों को काट लिया था। कुत्ता को गांव से भगाने के क्रम में मेरे घर का दरवाजा खुला देख कुत्ता घर में प्रवेश कर गया। हालांकि मेरी बेटी कुत्ता घर में प्रवेश नहीं करें इसके लिए घर के मुख्य दरवाजे को अंदर से बंद कर लिया । परंतु उसे इस बात का अहसास नहीं था कि कुत्ता घर में प्रवेश कर चुका है।



घर में उस खतरनाक पागल कुत्ता के घुसने की सूचना पर कोहराम मच गया। घर में बच्चे भी थे और बुजुर्ग पिता जी घर के दरवाजे वाले हॉल में लेटे थे। कुत्ता उसी रास्ते से घर के अंदर प्रवेश किया और बाहर भी उसी रास्ते से निकलना था।

पिताजी की तबीयत खराब थी और वह सो रहे थे। मुख्य दरवाजे के बंद होने से गांव के युवा घर में नहीं आ सकते थे।

मैं लाठी लेकर कुत्ता को भगाने के लिए आगे बढ़ा। कुत्ता पर लाठी से प्रहार किया । मुझे आज भी वह मंजर याद है । जब मैंने कुत्ता पर लाठी चलाई तो कुत्ता ने अपने मुंह से लाठी को पकड़ लिया और अजूबा तरह से गुर्राने लगा।  सुनकर मैं सिहर गया।

लाठियों से प्रहार का उस पर  का कोई असर नहीं दिख रहा था। घर में बच्चे को कमरे में बंद कर दिया गया। परंतु जिस रास्ते से कुत्ता को निकलना था बाबूजी उसी रास्ते में सो रहे थे । कुत्ता उस कमरे में भी चला गया। दिक्कत यह हो गई कि उस मुख्य कमरे का दरवाजा अंदर से ही बंद था। कुत्ता एक कोने में जाकर बैठ गया।

 ख़ैर, बेटी ने साहस करके अंदर का दरवाजा खोला। अब वहां कुत्ते पर हमला भी हम लोग नहीं कर सकते थे । बाबूजी वही सो रहे थे। उनको किसी तरह से जगा कर कमरे से निकाला।

कुत्ता अचानक घर से भागने लगा। गांव के कई युवा बाहर उसका इंतजार कर रहे थे। सभी ने उस पर हमला कर दिया। कुछ दूर जाने पर कुत्ता सभी को खदेड़ने लगा। मैं भी लाठी लेकर निकल गया था। मेरा क्रोध पारावार पर था। घर में कोहराम मच गया था। सभी डरे हुए थे। मैं क्रोधित था। मैंने कुत्ता पर लाठी से प्रहार किया। लाठी उसके सर पर लगी पर उसे कोई असर नहीं हो रहा था। फिर मैंने पूरी ताकत समेट कर उस पर प्रहार किया। 

वह गिर पड़ा और मैं लाठियों से उस पर बेरहमी से प्रहार करने लगा। मेरी लाठी टूट गयी और मैं क्रोध से कांप रहा था। पता नहीं क्यों, पर मैंने उस कुत्ता को मार डाला था। इस घटना को एक कहानी ना समझे। यह एक सच्ची घटना है । हालांकि आप इसे हैदराबाद एनकाउंटर से नहीं जोड़ सकते। यह महज एक इत्तेफाक था कि मेरे साथ ऐसा हुआ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अग्निपथ पे लथपथ अग्निवीर

भ्रम जाल से देश नहीं चलता अरुण साथी सबसे पहले अग्निपथ योजना का विरोध करने वाले आंदोलनकारियों से निवेदन है कि सार्वजनिक संपत्तियों का नुकसान ...