12 अगस्त 2011

अथ साष्टांग आसन कथा----(चुटकी)

साष्टांग आसन बहुत ही लाभप्रद और फायदेमंद है और इस आसन को आजमा कर कई लोग फर्श से अर्श तक पहूंच गए है। इस आशन के बारे में अभी बाबा देव ने किसी दूसरे को बताया ही नहीं, बस स्वतः ही आजमाते रहे और कांग्रेस से भी इस आसन को करबाते रहे।

अभी अभी जब बाबा सलबार सूट में दिखे तभी मैं समझ गया कि ऐसा क्यों हुआ। दरअसल इससे पहले बाबा साष्टांग आसन को आजमा रहे थे पर जैसे रही उन्होंने इस आसन का त्याग किया परिणाम कष्टदायक हो गया।

आसन के तरीके
सबसे पहले गहरी सांस ले और झूठ-मूठ का परेशानी अपने चेहरे पर ओढ़ ले। इसके बाद जिस किसी के पास इस आसन का प्रभाव छोड़ना है उसके सामने अपनी कमर नब्बे डिग्री पर झुका ले!

लाभ
कलीकाल में यह आसन काभी फलदायक सिद्ध होता है और सभी बिगड़े काम बनते चले जाते है। इसके फल से उच्च शिखर की प्राप्ती बिना किसी कर्म के ही हो जाती है।

उदाहरण
वैसे तो इसके कई उदाहरण आपको अपने आस पास मिल जाएगे और इतिहास में इसके कई उदाहरण है पर वर्तमान मे अपने मोहन बाबा इस आसन को आजमा कर कहां है सबको पता है।

नोट- 
कमर सीधी रखने वाले लोग आज कल पसंद नहीं किए जाते और अन्न, केजरीबाल, बेदी और भूषण सरीखे लोग इसलिए सरकार की आंख की किरकिरी बने हुए है।

निष्कर्ष
इस युग मे कमर सीधी रखने वाले बिरले ही मिलते है और कहा जाता है कि ईश्वर आज इसी रूप में धरती पर बास करते है।

एचएम और शिक्षक सरकारी स्कूल में पी रहे थे ताड़ी, शिक्षक ने मिलाया जहर

सरकारी स्कूल में नशीला पदार्थ आया ताड़ी, शिक्षक ने मिलाया जहर शेखपुरा बिहार में शिक्षा व्यवस्था का हाल बदहाल है। सरकारी स्कूल में प्रधानाध्...