12 सितंबर 2013

दंगों की राजनीति और जाल में फंसता आम आदमी

मुजजफरनगर दंगा को लेकर कल आज तक पर 30 एवं 31 सितम्बर का लगे मजमे का विडियो क्लिप दिखाया गया तो साफ लगा कि दंगा नेताओं के भड़काने की वजह से ही फैला है। 30 तारीख को नमाज के हुए मजमें में बसपा सांसद कादर राणा, सपा नेता राशिद सिददकी एवं कांग्रेस के नेता सईद उर जमा भड़काउ तकरीर दे रहे थे। वहीं 31 को हुए मजमे में भाजपा से जुड़ी साध्वी प्राची ने भड़काउ भाषण दिया। पुण्य प्रसून बाजपेई जी के इस बहस में सभी पार्टियों के नेता मौजूद थे पर इनकी ढिठई भी इस हद तक सामने आई की मन मसोस कर रह गया। बाजपेई जी ने सीधा सवाल किया कि आपके नेता गिरफ्तार होने चाहिए की नहीं, भाजपा को छोड़ किसी पार्टी के नेतओं ने इसका सीधा जबाब नहीं दिया। वही वहस, भाजपा दंगों को भड़का रही है।

यही तो है दंगों की हकीकत! हम दंगों की राजनीति करते है! अब जरा देखिए, मंत्री आजम खान  मुजजफरनगर के प्रभारी मंत्री है और उनके चरित्र को दुनिया जहान के लोग जानते है। दंगों की राजनीति के योद्धा। पहले तो मामुली विवाद को हवा दी और जब  आग लग गई तो खामोशी से तामाशाबीन बन भाजपा-भाजपा चिल्लाते रहे। और हद तो तब हो गई जब पानी सर से उपर जाने लगा तो सपा की बैठक का बहिष्कार कर अपने ही सरकार को घेरने की नौटंकी करने लगे।

इसी दंगा के मुददे पर मदनी साहब जैसे तथाकथित मौलवी भी मीडिया से रूबरू हुए। देखा की एयरकंडीशन कमरे मे बैठकर भाषण झाड़ रहे है। पर इन मुस्लिम नेताओं की एक बात बड़ी तकलीफदेह रही। सभी नेता सरकार को इस लिए कोस रहे थे कि वह मुस्लमानों को सुरक्षा देने में नाकाम रहीं, न कि इस लिए कि वह दंगा रोकने में नाकाम रही...।

यह एक बड़ा सवाल है। मुस्लिम के बुद्धिजीवियों को शायद ही कहीं यह कहते सुना गया है कि दंगा नहीं होना चाहिए बल्कि हमेशा वह यही कहते है कि सरकार मुस्लिमों को सुरक्षा नहीं दे पाती है। यहीं से शुरू होता है सरकार और राजनीति दलों को तुष्टीकरण की नीति जिसकी वजह से आम आदमी मारे जाते है। मदनी शरीखे लोग एसी में बैठे रहते है और घर जलता है गरीबों का।

यहां मैं थोड़ा एक पक्षीय होना चाहता हूं। इसलिए नहीं कि हिन्दू हूं, बल्कि इसलिए कि जहां हिन्दूओं में कुछ कटटपंथी नेता और साधू हैं तो वहीं उनका विरोध करनेवाले उनसे अधिक है। वह चाहे अशोक सिंहल हो या तोगड़िया या नरेन्द्र मोदी, हम अपना विरोध दर्ज कराते है, पर मुस्लमानों में यह नहीं देखी जाती और यदि कोई होगें तो मैं नहीं देखा पाया...।

सवाल यही उठता है कि आखिर कब तक हम अपनों का लहू उस ईश्वर या अल्लाह के नाम पर बहाते रहेगें जो कि एक है....। कब तक हम नेताओं के जाल में फंसते रहेगें...। बिहार हो या युपी या कोई अन्य प्रदेश सरकार हमेशा कहती है कि दंगों में भाजपा का हाथ है, तो फिर सरकार किस लिए है, हाथ चाहे जिस किसी का भी वह इस देश का मुजरिम है और जो देश की अखण्डता और एकता को तोड़ना चाहता है उसे सलाखों के पीछे पहूंचाए। पर कार्यवाई के नाम पर महज राजनीति करेगें और कहेगें कि हम सेकुलर है..। 

जो भी हो पर दंगों में मरता और उजड़ता तो गरीब ही है और इस दंगे के सहारे राजनीति करने वाले मगन रहते है, हों भी क्यों नहीं, मुस्लिम हितैषी पार्टियों के 60 साल के शासन में मुस्लमानांे की गरीबी नहीं मिटी...और इस बात को मुस्लमान समझ भी नहीं पाते...। मैं अक्सर सोंचता हूं कि दलितों को मिलने वाला आरक्षण मुस्लमान के गरीब (हलखोर आदि) जातियों को क्यों नहीं मिला, तो जबाब कोई नहीं देता ......और इसलिए ही शायद बाजपेई जी को आजतक पर हो रही गलथेथरी (बहस) को बीच में ही रोक देना पड़ा और भाजपा के नेता दंगों की राजनीति का एक मात्र काठ की हांडी बारबार चुल्हे पर चढ़ा रहे है...। जो भी हो पर यह गेम तो सभी पार्टियों के बीच फिक्स नजर आती है और आम आवाम की कराह इसी में दब जाती है...

8 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा कल - शुक्रवार - 13/09/2013 को
    आज मुझसे मिल गले इंसानियत रोने लगी - हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः17 पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया आप भी पधारें, सादर .... Darshan jangra





    जवाब देंहटाएं
  2. जो भी हो पर दंगों में मरता और उजड़ता तो गरीब ही है और इस दंगे के सहारे राजनीति करने वाले मगन रहते है

    कटु एवं दुखद सत्य ....

    जवाब देंहटाएं
  3. उम्दा सटीक आलेख !!सभी दल वोट की राजनीत कर रहे है,,,

    RECENT POST : बिखरे स्वर.

    जवाब देंहटाएं
  4. ऐसा करें कि हाथ पकड़ना सीखें बच्चे दुनियां में !
    रामू चाचा ,रहमत काका, दोनों सच्चे दुनियां में !

    जवाब देंहटाएं
  5. आपके ब्लॉग को ब्लॉग संकलक ब्लॉग - चिठ्ठा में शामिल किया गया है। सादर …. आभार।।

    नई चिठ्ठी : "ब्लॉग-चिठ्ठा" की नई कोशिश : "हिंदी चिठ्ठाकार" और "तकनिकी कोना"।

    कृपया "ब्लॉग - चिठ्ठा" के फेसबुक पेज को भी लाइक करें :- ब्लॉग - चिठ्ठा

    जवाब देंहटाएं

अग्निपथ पे लथपथ अग्निवीर

भ्रम जाल से देश नहीं चलता अरुण साथी सबसे पहले अग्निपथ योजना का विरोध करने वाले आंदोलनकारियों से निवेदन है कि सार्वजनिक संपत्तियों का नुकसान ...