10 नवंबर 2013

ख्वाब की तामीर

रोज तुम आती हो आंखों में तसव्वुर बनकर।
ख्वाबों में सही, ख्वाब की तामीर तो होती है।।

लैला- मजनूँ  की तरह न हो मशहूर अपने किस्से।
आंखों में पाक मोहब्बत की तस्वीर तो होती है।।

संगमरमर से तराशा ताजमहल तुमको कैसे कह दूं।
ताज की दीवारों पर भी दर्द की तहरीर होती है।।

मोहब्बत है तो फिर खुदा की आरजू क्यूं हो।
पाक-मोहब्बत में खुदा की तस्वीर होती है।।

जुनून में कभी मोहब्बत को उदास मत करना।
खुश्बू के पांवों में भी कहीं जंजीर होती है।।

5 टिप्‍पणियां:

  1. भाई साहब गज़ल का हर शैर खूबसूरत बेहद काबिले दाद है

    लौला-मजनूं की तरह न हो मशहूर अपने किस्से।
    आंखों में पाक मोहब्बत की तस्वीर तो होती है।।

    लैला- मजनूँ लकर लें।

    जवाब देंहटाएं
  2. भाई साहब गज़ल का हर शैर खूबसूरत बेहद काबिले दाद है

    लौला-मजनूं की तरह न हो मशहूर अपने किस्से।
    आंखों में पाक मोहब्बत की तस्वीर तो होती है।।

    लैला- मजनूँ लकर लें।

    जवाब देंहटाएं
  3. waah @ Arun jee
    लौला-मजनूं की तरह न हो मशहूर अपने किस्से।
    आंखों में पाक मोहब्बत की तस्वीर तो होती है।

    जवाब देंहटाएं
  4. लैला- मजनूँ की तरह न हो मशहूर अपने किस्से।
    आंखों में पाक मोहब्बत की तस्वीर तो होती है।।

    संगमरमर से तराशा ताजमहल तुमको कैसे कह दूं।
    ताज की दीवारों पर भी दर्द की तहरीर होती है।।
    sundar, ek sachhe premi ki pida

    जवाब देंहटाएं

अग्निपथ पे लथपथ अग्निवीर

भ्रम जाल से देश नहीं चलता अरुण साथी सबसे पहले अग्निपथ योजना का विरोध करने वाले आंदोलनकारियों से निवेदन है कि सार्वजनिक संपत्तियों का नुकसान ...