18 मई 2015

भाड़ी...

***
हम मंगैलूं मोछ वाला, मोछ मुंडा काहे अईले रे । मार......चोट्टा, साला...पूरा गाँव हंसैलए रे....। 
***
इस भाड़ी को सुन, जाने क्यों मन में गुद्गुद्दी होने लगती है । बिहार में इन दिनों शादी ब्याह का मौसम है और महिलाओं द्वारा अपनी गीतों से भाड़ी के रूप में जम के गाली दी जा रही है । इन भाड़ियों में ग्राम जीवन का माधुर्य और मिठास होती है । 
***
कई भाड़ी तो इतने अश्लील होते है कि आप शर्मा जाईयेगा...खुले आम गाली का यह चलन बिहार में तो है , बाकि जगहों का मैं नहीं जानता । गाँव में इस तरह की भाड़ी गाने के लिए खास गितहरी महिलाएं होती है । 
***
बहुत दिनों से सोंच रहा था की आखिर इतने अश्लील गीत की यह कैसी परम्परा है ? पर आज जो मन ने तर्क दिया वह यह है की इस तरह खुले आम गाली देने पे भी कोई कुटुंब बुरा नहीं मानते, क्यों? सभी हंस के इसे टाल देते है । 

आम जीवन में भी यदि गाली के प्रति हमलोग इसी तरह का सहज भाव रखें तो जीवन के अमूल क्रांति घटित हो जाये । जीवन प्रेममय हो जाये ।।।। 
***
इसी तरह के कुछ सहज गीत
***
लाबा न छिटहो दुलरैते भईया, बहिनी तोहरियो जी ।
अंगूठा ना छुअह् छिनारी के पूता, धानी तोहारियो जी ।।
***
माई-बाप के चरन दूल्हा, कहियो न छूला जी ;
धानी के चरन छू के, कत्ते नितरैला जी ।।
***

वोट बैंक में बदला धर्म लोकतंत्र का जहर

वोट बैंक में बदला धर्म लोकतंत्र का जहर अरुण साथी ताजिया को अपने कंधे पर उठाए मेरे ग्रामीण युवक बबलू मांझी रात भर जागकर नगर में घूमता रहा। ...