04 मई 2015

लव, सेक्स और धोखा ....

***
मन वेदना से भरा हुआ, उद्विग्न है । कल एक साथ कई घटनाएं घाटी । जिला मुख्यालय के एक होटल में एक प्रेमी युगल प्रेमालाप का वीडियो बनाया और वह व्हाट्स अप्प पे वायरल हो गया । होटल में छापेमारी कर पुलिस ने संचालक को गिरफ्तार कर लिया । लड़का वार्ड पार्षद का बेटा है....। लड़की स्वेच्छा से अपने अंतरंग संबंधो का वीडियो बनाने में सहभागी बनी । प्रेम जाल में फंस कर । 
***
दूसरी घटना बीती रात को बरबीघा में घटी । रात को ग्यारह बजे एक परिचित ने सूचना दी उनके एक किरायेदार नवविवाहिता आग से जल गयी है । भाग कर गया तो दिल दहलाने वाला मंजर । पूरी तरह जली युवती मौत मांग रही थी । उसका पति भाग गया । सभी ने मिलकर उसे अस्पताल पहुँचाया । फिर पटना रेफर किया गया । 
***
युवती ने प्रेम विवाह किया था, एक साल पुर्व ही ! पति प्रायवेट जॉब में था और दोनों अकेले रहते थे । एक साल में प्रेम विवाह कि परिणति यह हुई, कैसा प्रेम है ...!
***
आचार्य रजनीश (ओशो) ने कहा है की जब प्रेमी, प्रेम में होते है तो उसे अपने प्रेम के केवल और केवल अच्छाईयां नजर आती है । प्रेमी एक दूसरे को अच्छाईयां ही दिखाने का प्रयास करते है और ऐसा कम समय साथ रहने पे होता है । जैसे ही वे नजदीक आते है तो उनकी बुराईयाँ सामने आती है तो उनको धक्का लगता है । इसी कारण प्रेम विवाह ज्यादातर असफल हो जाते है । 
***
आज प्रेम, देह की परिधि में सिमट मृतशय्या पे कराह रहा है । कहीं अपने ही प्रेम को सरे बाजार रुस्बा कर दिया गया और जिस देह को पाने की चाह में जाने क्या क्या किया उसे ही बाजारू कर दिया । पुरुषप्रधान समाज में लड़का चाहे जो करे, कलंक लड़की के माथे ही आना है । वहीं एक प्रेम में जिस देह को पाने के लिए परिवार और दुनिया को ठुकरा दिया गया, उसी प्रेम ने उसी देह को आग के हवाले कर दिया... कैसा प्रेम है....।
मुझे तो अब लगता है कि प्रेम अब केवल लव, सेक्स और धोखा ही रह गया है ....जिसमे हर हाल में खोना केवल स्त्री के भाग्य में बदा है...बदनसीब...

@अरुण साथी/बरबीघा/बिहार/04/05/2015

रंडीबाज

रंडीबाज (लघुकथा, एक कल्पकनिक कथा। इस कहानी से किसी व्यक्ति या संस्था को कोई संबंध नहीं है) चैत के महीने में अमूमन बहुत अधिक गर्मी नहीं होत...