20 अक्तूबर 2010

मां की आंख के आंसू कोई नहीं देखता.

यह भले ही अतिस्योक्ती लग रही हो पर सच यही है. आज नारी शक्ति के उपासना के ईस महापर्व दुर्गापूजा पर यह सब एक बार फ़िर से देखने को मिला वह भी व्यापक समाजिक स्वीकारिता के साथ. एक तरफ़ हम नारी की पूजा करते हैं तो दूसरी तरफ़ वहीं नारी का अर्धनग्न  नांच भी आयोजित करते है और इसकी समाजिक मान्यता भी है. यह बुराई गांव से लेकर नगर तक सब जगह देखने को मिलता है. धर्म के आड मे यह सबसे बडा अधर्म है मां की पूजा तो हम करते है पर रोती हुई मां की आंख के आंसू कोई नहीं देखता.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अग्निपथ पे लथपथ अग्निवीर

भ्रम जाल से देश नहीं चलता अरुण साथी सबसे पहले अग्निपथ योजना का विरोध करने वाले आंदोलनकारियों से निवेदन है कि सार्वजनिक संपत्तियों का नुकसान ...