01 फ़रवरी 2011

खुर्शीद कोई नहीं





साथी तुम चिंगारी को हथेली पर सजाना,
डूब कर आग के दरिया के पार जाना।

हर तरफ जुल्मते है इसलिए,
तुम कहते हो बस, कैसा  है जमाना। 

ये साथी तुम अपनी खामोशी तोड़ों,
है यह गलत, ‘‘खुर्शीद’’ को भी मुंह पर बोलो।

तिस्नगी है उनको तो तुम बस तस्लीम न कर,
बुरा कहने की हिम्मत नहीं, तो बंद कर दो मख्खन लगाना।

यह तिजारत की सियासत है दोस्तों,
साथी तुम तो समझों, बंद कर देगें वे धर्म की दुकान को सजाना।



(खुर्शीद-सुर्य)
(तस्लीम-अभिनन्दन)
(तिस्नगी-तृष्णा)

3 टिप्‍पणियां:

  1. साथी तुम चिंगारी को हथेली पर सजाना,
    डूब कर आग के दरिया के पार जाना।

    क्या बात है! सुन्दर गजल.

    उत्तर देंहटाएं
  2. खुबसूरत अहसास ,अच्छी नज्म मुबारक हो

    उत्तर देंहटाएं

जो लोग अपने मां—बाप को प्रेम दे पाते हैं, उन्हें ही मैं मनुष्य कहता हूं..

ओशो को पढ़िए आपने कल माता और पिता के बारे में जो भी कहा , वह बहुत प्रिय था। माता—पिता बच्चों को प्रेम देते हैं, लेकिन बच्चे माता—पिता को प्र...