16 फ़रवरी 2011

जमूरे की सुसाइड



मेहरबान,
कद्रदान,
साहेबान,
लोकतंत्रिक देश के ‘‘बुढ़ेजवान’’
सबको इस मदारी का सलाम।

हां तो,
सिपाही जी अपनी टोपी उतार लें,
कालेकोट वाले भाई साहब
और
कलमनवीशों से मेरी गुजारिश है,
आंख बंद कर देखने की सिफारिश है।

तो जनाब
यह मरियल सा आम आदमी
मेरा जमूरा है,
तमाशाबीन आर्यावर्त पूरा है।

‘‘तो बोल जमूरे तुम मरना क्यों चाहते हो’’

‌‌हूजूर
मैंने घोर पाप किया है,
लोकतंत्र के राजा को हरबार माफ किया है,
कभी मुंबई तो कभी रेल बलास्ट,
कभी संसद पर हमला
तो कभी मंदिर-मस्जिद विवाद।

अब तो राजा की मेहरबानी से
मंहगाई का बोलबाला है,
और मेरे जैसों को दाल-रोटी का भी लाले है,

‘‘और इतने पर भी मेरा खून तो अब खौलता ही नहीं’’
‘‘जुंबा तो है पर यह विरोध में बोलता ही नहीं।’’


भ्रष्टाचार और मंहगाई से हम रोज मर रहें है,
इसलिए आत्महत्या कर रहें है।

4 टिप्‍पणियां:

  1. ‘‘और इतने पर भी मेरा खून तो अब खौलता ही नहीं’’
    ‘‘जुंबा तो है पर यह विरोध में बोलता ही नहीं।’’
    मारो एक झपाटा साले को तो बोलने लगेगा ! हा हा। बहुत उम्दा बात कही आपने।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत लाजवाब और उम्दा लिखा है......गहरी बात आसानी से कह दी आपने

    उत्तर देंहटाएं
  3. aajkal yah jamoora kadam-kadam par dikh jata hai. har insaan me...

    उत्तर देंहटाएं

जो लोग अपने मां—बाप को प्रेम दे पाते हैं, उन्हें ही मैं मनुष्य कहता हूं..

ओशो को पढ़िए आपने कल माता और पिता के बारे में जो भी कहा , वह बहुत प्रिय था। माता—पिता बच्चों को प्रेम देते हैं, लेकिन बच्चे माता—पिता को प्र...