18 सितंबर 2012

एक छोटी सी लव स्टोरी के सुधी पाठकों से क्षमा याचना के साथ निवेदन..

एक छोटी सी लव स्टोरी के संबंध में कुछ मित्रों की सलाह है कि अब इसे ब्लॉग में न देकर एक किताब की शक्ल देनी चाहिए और इसी दुविधा की वजह से अगली कड़ी अटकी हुई है....प्रकाशक की खोज जारी है.....
आपके विचार के इंतजार में...
आपका
अरूण साथी

मोनू खान

मोनू खान। फुटपाथ पर बुक स्टॉल चलाते वक्त मित्रता हुई और कई सालों तक घंटों साथ रहा। मोनू खान, ईश्वर ने उसे असीम दुख दिया था। वह दिव्यांग था। ...