08 अक्तूबर 2012

जितिया, तीज और करवाचौथ, महिलाओं को गुलाम रखने के उपाय..


पोंगा-पंडित और पोथा सब बकबास है, इनको आग के हवाले करने के बाद ही स्वस्थ समाज का निर्माण किया जा सकता है। अब देखिए, आज जितिया पर महिलाओं का उपवास है और इसके लिए परंपरागत तरीके से सुबह चार बजे महिलाऐं कुछ नास्ता करके चौबीस घंटे का उपवास करती थी पर इस बर पांेगा महराज का फरमान आ गया कि रविवार को शाम 8 बजे तक ही कुछ खा सकती है। भला बताइए 36 घंटा निर्जला उपवास? 
जितिया, तीज, करमा, करवाचौथ, ऐ सारे के सारे औरतों की गुलाम मानसिकता का प्रतीक है।
मेरी समझ से यह पुरूषों के द्वारा महिलाओं को मानसीक रूप से गुलाम रखने का यह तरीका है। जितिया बेटा के लिए, तीज और करवा चौथ पति के लिए, करमा भाई के लिए, सारा उपवास पुरूषों के लिए? महिलाओं के लिए पुरूष कौन सा उपवास करते है?
हलांकि पुरूषों के द्वारा महिलाओं गुलाम की कई जंजीर भी पहनाई गई है जिसमें सिंदूर, मंगलसुत्र, चुड़ी आदि आदि....। पुरूष शादीशुदा होने पर कुछ क्यों नहीं पहनता? हद तो यह कि महिलाओं की मनसिकता इसको लेकर इतनी पवित्र है जितनी भगवान को लेकर...।

इस तरह के पर्व को लेकर पहले मां से झगड़ता था अब बीबी से झगड़ता हूं। हद हाल है। चौबीस चौबीस घंटे निर्जला उपवास। चलो यह तर्क भी ठीक है कि सेहत के लिहाज से उपवास ठीक होता है पर बिमार लोगों के लिए? चाहे प्राण क्यों न चली जाए, उपवास तो करनी ही है। एक साल से बीबी को डायबटीज है पर जब उपवास की बात आती है तो अड़ जाती है, सीधा, करेगें। हलांकि इस बार आज सुबह चार बजे लड़-झगड़ कर  नास्ता तो करा दिया पर उपवास खत्म नहीं करा सका हूं..।


मोनू खान

मोनू खान। फुटपाथ पर बुक स्टॉल चलाते वक्त मित्रता हुई और कई सालों तक घंटों साथ रहा। मोनू खान, ईश्वर ने उसे असीम दुख दिया था। वह दिव्यांग था। ...