14 फ़रवरी 2013

वेलेन्टाइन और गुलाब



तुम ही कहो प्रिये
क्या वेलेन्टाइन पर
गुलाब देने भर से
समझ जाओगी तुम..
भला कहो तो कैसे...?
शाख से तोड़ कर
एक लाल गुलाब
दे भी दूं तुम्हें
तब भी क्या किसी के शाख
से तोड़ लेने का दर्द
सालता नहीं रहेगा मुझे....

तुम्हारे
नाजुक हाथों में कहीं
चुभ न जाए कांटे
इसका डर भी तो मुझे डराता रहेगा...

तुम्ही कहो प्रिये
जब दिल के धड़कने की सदा
से तुम्हारा दिल न धड़का हो
सांसो की संगीत से
तुम्हारा मन न झुमा हो
तब भला फूल को तोड़कर
किसी को दर्द क्यों दू...
तुम्हीं कहो  प्रिये
आखिर
प्रेम तो प्रेमपुर्ण होता है न...




9 टिप्‍पणियां:

  1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. आप सबका बहुत बहुत आभार..............

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुदामा प्रसाद , बसंतपुर 75648838128 जनवरी 2015 को 6:40 am

    लाल गुलाबी रंग है झूम रहा संसार
    सुरज की किरने खुशीयो का बहार
    चाँद की चांदनी अपनो का प्यार
    मुबारक हो आपको वेलेंटाइन डे का यह त्योहार!

    उत्तर देंहटाएं

जो लोग अपने मां—बाप को प्रेम दे पाते हैं, उन्हें ही मैं मनुष्य कहता हूं..

ओशो को पढ़िए आपने कल माता और पिता के बारे में जो भी कहा , वह बहुत प्रिय था। माता—पिता बच्चों को प्रेम देते हैं, लेकिन बच्चे माता—पिता को प्र...