15 अक्तूबर 2014

जब मां बनाती थी भंगरोय्या से काजल..


इस पौधे को देखकर बचपन की बातें याद आ जाती है जब मां काजल बनाने के लिए भंगरोय्या  (लाल दुभी) नामक इस धास को लाने के लिए कहती थी। इस धांस का रस निकाल कर मां उसे कपड़े में भिंगो देती थी और फिर उसकी बत्ती बना कर करूआ तेल (सरसों) का दीया अंधेरे जगह में जलाती थी और फिर उससे निकले कालिख से काजल बनाती थी। इस कालिख को मां फुलिया कहती थी।


फुलिया को गाय के घी में मिला कर काजल बनाती थी और कहती थी यह काजल ठंढी होती है और जब उसे करूआ तेल में मिला कर बनाती थी तो कहती थी यह गर्म होती है.. प्रकृति के साथ यह थी हमारी परंपरागत ज्ञान जो आज के विज्ञान से बहुत आगे थी। एक संवाद..एक आत्मीयता..

आज चरन्नी का काजल सौ, दो सौ में बिकती है। उसका ऐसा ब्रान्डिग किया गया कि महिलाऐं अब घरेलू काजल को बनाना और लगाना भूल गई। हलांकि गांव में अभी भी बहुत महिलाऐं इसी नुस्खे से काजल बनाती है पर घीरे घीरे कुकरौंधा का पैधा भी अब बहुत कम मिलने लगा है....

बात सहज है कि पुंजीवाद के इस दौर में विज्ञापन के हथियार से साम्राजवादियों ने हमसे हमारी संस्कृति, हमारी परम्परा और हमारी आत्मीयता भी छीन रही है और हमें एहसास भी नहीं होता...

4 टिप्‍पणियां:

  1. हाँ , पहले मेरे यहाँ भी बनाया जाता था । अब तो सब बाजार के हिस्से चला गया है

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बृहस्पतिवार (16-10-2014) को "जब दीप झिलमिलाते हैं" (चर्चा मंच 1768) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच के सभी पाठकों को
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  3. सब फैशन में शुमार हो आकर्षक पैक में बाज़ार में उपलब्ध हो रहा है, रही सही कमी डॉक्टर्स ने आँखों के लिए काजल हानिकारक है , बता कर पूरी कर दी है , उन्होंने तो गुलाबजल को भी अनुचित बता दिया है

    उत्तर देंहटाएं

जो लोग अपने मां—बाप को प्रेम दे पाते हैं, उन्हें ही मैं मनुष्य कहता हूं..

ओशो को पढ़िए आपने कल माता और पिता के बारे में जो भी कहा , वह बहुत प्रिय था। माता—पिता बच्चों को प्रेम देते हैं, लेकिन बच्चे माता—पिता को प्र...