10 जनवरी 2015

मरने वालों की सूची में मेरा नाम

जो लोग प्रर्यायवाची अपशब्दों
की तरह
सेकुलर कहके
डराना चाहते है
यह कविता उनके लिए है.....

सुनो
सीरिया, पेरिस, पेशावर
मुम्बई, गोधरा-गुजरात
में जिन्होंने
मौत का ताण्डव किया
वो भी थे
तुम्हारी ही तरह
धर्मान्ध......

तुम्हारी ही तरह 
उन्हें भी लगता है
खामोश कर दो
काफीरों को..

पर सुनो
सभी धर्मों से समभाव
मेरा है स्वभाव
इसलिए
शार्लों एब्दो 
वालों की ही तरह मैं भी
मरने वालों की सूची में
अपना नाम पसन्द करूंगा....

मारने वालों की सूची में 
तुम्हारा नाम
तुम्हें मुबारक हो......

4 टिप्‍पणियां:

  1. सार्थक प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (11-01-2015) को "बहार की उम्मीद...." (चर्चा-1855) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. सटीक व सार्थक सामयिक प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेहद उम्दा सोच के साथ लिखी गई कविता

    उत्तर देंहटाएं

जो लोग अपने मां—बाप को प्रेम दे पाते हैं, उन्हें ही मैं मनुष्य कहता हूं..

ओशो को पढ़िए आपने कल माता और पिता के बारे में जो भी कहा , वह बहुत प्रिय था। माता—पिता बच्चों को प्रेम देते हैं, लेकिन बच्चे माता—पिता को प्र...