07 जनवरी 2015

आ थू .....(पेरिस में आतंकी हमले में शहीद पत्रकारों को श्रद्धांजलि)

आ थू .....(पेरिस में आतंकी हमले में शहीद पत्रकारों को श्रद्धांजलि)
मार देना मुझे भी 
पर याद रखना 
ओ मौत के सौदागर 
बहुत लोग है 
जो नहीं डरते मौत से 
और उनका निडर 
रक्तबीज
तेजी से बढ़ता है 
एक मरोगो 
सौ कतार में खड़े होंगे 
सच के लिए 
मरने वाले 
सच के लिए 
लड़ने वाले
और हाँ 
ये खुदा के नापाक बन्दे 
सुन लो 
हम गोलियों से नहीं डरते 
और तुम
कार्टून से डर जाते हो ...
आ थू .....
आ थू .....
(तस्वीर- पेरिस में शहीद पत्रकार का एक कार्टून )

1 टिप्पणी:

जो लोग अपने मां—बाप को प्रेम दे पाते हैं, उन्हें ही मैं मनुष्य कहता हूं..

ओशो को पढ़िए आपने कल माता और पिता के बारे में जो भी कहा , वह बहुत प्रिय था। माता—पिता बच्चों को प्रेम देते हैं, लेकिन बच्चे माता—पिता को प्र...