18 दिसंबर 2016

मुंहझौंस पत्थरा से चूर देबौ, बम मार देबौ

मुंहझौंस पत्थरा से चूर देबौ, बम मार देबौ..

शराब बनाने वाली महिलाओं का यह गुस्सा पुलिस द्वारा आयोजित संवाद कार्यक्रम में देखने को मिला। शराब बनाने वाले लोगों को कड़े कानून के प्रति जागरूक करने और शराब नहीं बनाने के लिए प्रेरित करने के लिए पुलिस यह अभियान चला रही है। इसका आयोजन बरबीघा नगर के नारायणपुर मोहल्ले में किया गया था। इसमें पुलिस, प्रशासन, मीडिया और जागरूक लोग जुटे थे। बड़ी संख्या में चुलौआ शराब बनाने वाली जुटी थी। महिलाएं कुछ समझने को तैयार नहीं थी। वे समझाने गए लोगों से उलझ गयी। पुलिस को धमकी तक दे दी।
संवाद सुनिये..थानाध्यक्ष नवीन कुमार और महिलाओं की।

"किसी को बख्शा नहीं जायेगा, आज न कल सबको पकड़ना है। छापेमारी जारी रहेगी।"

" तो ईंट पत्थर से चूर देंगे!!"

"पुलिस भी बचाव में गोली चला सकती है।"

"हम भी बम मार देंगे।"

मैंने समझाते हुए कहा कि शराब की बजह से लोगों की मौत हो जाती है तो महिलाओं का जबाब था "जो शराब नहीं पीते उनकी मौत कैसे हो जाती है?

सबलोग हक्का बक्का रह गए...

रंडीबाज

रंडीबाज (लघुकथा, एक कल्पकनिक कथा। इस कहानी से किसी व्यक्ति या संस्था को कोई संबंध नहीं है) चैत के महीने में अमूमन बहुत अधिक गर्मी नहीं होत...