09 मई 2017

मेरा गांव मेरा देश (फोटोग्राफर- अरुण साथी)


हिंसात्मक होते समाज का सच और आंखों देखा हाल..

अरुण साथी सड़क हादसे में मौत के बाद जो मंजर आजकल विभिन्न जगहों पे देखने को मिलती है वह बहुत ही डरावना और भयावह है। किशोर और युवा इसमें बहुसं...