06 दिसंबर 2018

अरे साला रिक्शा

अरे साला रिक्शा

नगर के जाम में रिक्शा के आगे अपनी बाइक लगा कर जाम लगाने के अपराधबोध से मुक्त युवक ने सीधा सीधा रिक्शा चालक को गाली देनी शुरू कर दी।

"अरे साला रिक्शा नै जना हउ रे, ले पीछे। मार के फाड़ देबौ!"

वह नौजवान दबंग दिखने का भरपूर कोशिश कर रहा था। बाइक पे नए फैशन का महाकाल स्टिकर चिपका हुआ था। रिक्शा वाला जैसे तैसे रिक्शा पीछे लिया।

नौजवान ने बाइक आगे बढ़ा ली। सामने एक स्कार्पियो गाड़ी था। जैसे ही गलत साईड बाइक सवार नौजवान स्कार्पियो के सामने गया उसपे सवार दबंग जैसा व्यक्ति भड़क गया।

"अरे मादर..., साला, काट के गाड़ देंगे। साला तुम्हीं लोग जैसे लफुआ कि गलती से यह जाम है। जैसे तैसे गाड़ी घुसा देता है।"

नौजवान चुपचाप बाइक साईड करने लगा और मैं सोंच रहा था कि इसे ही कहते है हम पर तुम, तुम पर खुदा।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

जो लोग अपने मां—बाप को प्रेम दे पाते हैं, उन्हें ही मैं मनुष्य कहता हूं..

ओशो को पढ़िए आपने कल माता और पिता के बारे में जो भी कहा , वह बहुत प्रिय था। माता—पिता बच्चों को प्रेम देते हैं, लेकिन बच्चे माता—पिता को प्र...