09 जुलाई 2021

मेघ

#मेघ
टिप टिप
टुपुर टुपुर

यह बिरह गीत है
या की है
मिलन संगीत
सुनो तो सही
कुछ देर मौन होकर
दिल से

किसी बिरहन के
आंसूं हैं ये
या की है
क्रंदन
किसी अहिल्या की

अरे हाँ, रुको
यह प्रेम संगीत है
क्या तुम प्रेमी हो
हो न..
(शब्द और छाया अरुण साथी की)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अग्निपथ पे लथपथ अग्निवीर

भ्रम जाल से देश नहीं चलता अरुण साथी सबसे पहले अग्निपथ योजना का विरोध करने वाले आंदोलनकारियों से निवेदन है कि सार्वजनिक संपत्तियों का नुकसान ...