01 अप्रैल 2011

काश की मैं मुर्ख होता........



काश की मैं मुर्ख  होता!

फटी जेब और टूटा नारा,
पैजामा का करे बेचारा,
होती गठरी खाली तो फिर क्या खोता?
काश की मैं मुर्ख  होता!

विद्धानों की महफिल में
आंख, कान, मुंह (नाक नहीं)
बंद कर रोता,
विद्वतजन कहलानें को 
कम से कम कांटा तो न बोता?
काश की मैं मुर्ख  होता!

न होती कोई भाषा,
न होता कोई मकसद,
न होता कोई देश,
न होती कोई सरहद,
न बनता अणु-परमाणु,
न सजती अपनी तबाही।
अपनों के लहू से धरती का आंचल नहीं भिंगोता? 
काश की मैं मुर्ख  होता!


खग ही जाने खग की भाषा,
हाथ न आता कभी निराशा,
नहीं ऐश्वर्या, नहीं नताशा,
नहीं मलाई, नहीं बताशा,
जाति-धर्म का नहीं तमाशा।
तकिये को पैरों तर रख कर,
घोड़ा बेचकर सोता।
काश की मैं मुर्ख  होता!


बीबी से डरता,
प्रेमिका पे मरता,
अपनी खाली कर, औरों की जेब भरता।
अपनी उपेक्षा पर न कभी सुर्ख  होता?

काश की मैं मुर्ख  होता!

काश की मैं मुर्ख  होता!
काश की मैं मुर्ख  होता!

काश की मैं मुर्ख  होता!


चित्र गूगल से साभार 

11 टिप्‍पणियां:

  1. काश की मैं मूर्ख होता!
    बीबी से डरता,
    प्रेमिका पे मरता,
    अपनी खाली कर, तेरी जेब भरता।
    अपनी उपेक्षा पर न कभी सूर्ख होता?
    ...............ला-जवाब" जबर्दस्त!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. @ बीबी से डरता,प्रेमिका पे मरता,

    मतलब अभी ..... ? !!

    सच?
    अगर अभी आप न डर रहे हैं, उन पर, न मर रहे हैं “उन” पर, तो क्या आप मूर्ख नहीं है?

    उत्तर देंहटाएं
  3. न होती कोई भाषा,
    न होता कोई मकसद,
    न होता कोई देश,
    न होती कोई सरहद,
    न बनता अणु-परमाणु,
    न सजती अपनी तबाही।
    अपनों के लहू से धरती का आंचल नहीं भिंगोता?
    काश की मैं मुर्ख होता!

    बहुत प्रेरणादायी पंक्तियाँ !

    .

    उत्तर देंहटाएं
  4. काश की मैं मूर्ख होता!
    बीबी से डरता,
    आपका आशय ९५% पतियों से तो नहीं है ?

    उत्तर देंहटाएं
  5. अपनी खाली कर, औरों जेब भरता।
    अपनी उपेक्षा पर न कभी सुर्ख होता?

    वाह ! क्या बात है.

    काश, ऐसे मूर्खों की जनसंख्या देश में और होती!

    उत्तर देंहटाएं
  6. आप सबों का हार्दीक धन्यवाद कि आपको मेरी रचना पसंद आई।

    मनोज जी सच ही कह रहा हूं। मैं तो डरता हूं आप आने बारे में क्या कहतें है।

    सुनील जी 95 प्रतिशत का क्या मतलब है यह 5 प्रतिशत कौन है हमे तो नहीं पता आप अपने बारे में कह रहें है क्या?

    मनोज बाबू चिंता मत करिये धीरे धीरे यह विलुप्त होती जा रही है।

    गिरिवाला जी को सादर की आपकों हंसा सका। पसंद करने के लिए आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  7. भाष्कर जी आप अपना मन्तव्य नहीं बताए। बीबी से डर रहें है या नहीं। जनाब की क्या राय है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत बढ़िया ...सच कहा ...
    मूर्खता के बड़े फायदे हैं.....

    उत्तर देंहटाएं
  9. काश तू मूर्ख होता
    तो इससे बेहतर कविता रचता।
    हा हा।

    उत्तर देंहटाएं

जो लोग अपने मां—बाप को प्रेम दे पाते हैं, उन्हें ही मैं मनुष्य कहता हूं..

ओशो को पढ़िए आपने कल माता और पिता के बारे में जो भी कहा , वह बहुत प्रिय था। माता—पिता बच्चों को प्रेम देते हैं, लेकिन बच्चे माता—पिता को प्र...