11 दिसंबर 2012

सुखल फुटानी


उर्वरक की कालाबाजारी एक गंभीर समस्या है। पिछले साल इसका बड़ा ही कड़बा  अनुभव रहा है। जितनी बार खबर लगी, पदाधिकारी ने छापेमारी की उतनी ही बार उर्वरक का मुल्य और बढ़ गया। एक मित्र ने उस समय व्यंग किया - ‘‘क्या हुआ जितनी बार अधिकारी ने पैसा खाया, उतनी बार दाम को बढ़ा दिया गया। तुम्हीं मैनेज हो जाते तो क्या होता? खाली सुखले फुटानी से काम चलेगा।’’ 

अभी 280 का युरिया 370, 1000 का डीएपी 1600, 900 का एनपीके 1300 में बिक रहा है। सबकी चांदी है।

इस बार उर्वरक के थोक माफिया के द्वारा विज्ञापन देने का प्रलोभन दिया गया। मन भी डोल रहा है। असमंजस में हूं क्या करू? विज्ञापन ही हम जैसे छोटे रिर्पोटरों का मापदण्ड है। 

सांप छुछुंदर का हाल है-निगलो तो अंधा, उगलो तो कोढ़ी....

पत्रकार शांतनु भौमिक की हत्या और विरोध के मुखौटे

पत्रकार शांतनु भौमिक की हत्या और विरोध के मुखौटे ............................... एक महीने के भीतर फिर एक पत्रकार मारा गया है. इस बार बुरी ...