05 दिसंबर 2012

भागमभाग


जीवन के जद्दोजहद में
भागते भागते
बहुत कुछ छूट गया है पीछे....

छूट गया पीछे
दलान पर
गांव-जबार से लेकर
दुनीया भर  की चिंताओं
पर चिंतन करना...

छूट गया पीछे
पनघट-पनहारिन
देवर-भौजाई
मौया-बाबू

छूट गया पीछे
दोल-पत्ता
गुल्ली-डंडा
नुक्का-छुप्पी
श्याम-चकेवा

छूट गया पीछे
भोज-भात में
पंगत-पत्तल
होय हरी
रामरस

छूट गया पीछे
किसी के निधन पर
शव निकलने तक
चुल्हा नहीं जलना
कहमां से हंसा आ गेलै
निर्गुण का सुनना
बाबू जी का परतकाली
देवर-भौजाई
साला-साली
के बीच की प्रेमपुर्ण गाली

कहां थे हम, कहां आ गए।
भागमभाग में सबकुछ लुटा गए।।



10 टिप्‍पणियां:

  1. कहां थे हम, कहां आ गए।
    भागमभाग में सबकुछ लुटा गए।।

    ज़िन्द्गी की यही त्रासदी है भागना ही पड़ता है.

    जवाब देंहटाएं
  2. कहां थे हम, कहां आ गए।
    भागमभाग में सबकुछ लुटा गए,,,,,

    recent post: बात न करो,

    जवाब देंहटाएं
  3. आपको लग तो रहा है कि‍ कुछ पीछे छूट गया . आने वालों को तो पता भी नहीं होगा कि‍ क्‍या छूट गया :(

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत अछि लगी आपकी यह कविता...सच में जीवन की भाग दौड़ में कितनी सारी चीजें छूट जाती हैं.

    जवाब देंहटाएं

अग्निपथ पे लथपथ अग्निवीर

भ्रम जाल से देश नहीं चलता अरुण साथी सबसे पहले अग्निपथ योजना का विरोध करने वाले आंदोलनकारियों से निवेदन है कि सार्वजनिक संपत्तियों का नुकसान ...