28 अप्रैल 2014

भगजोगनी

(केजरीवाल को समर्पित)

अमावस की रात
धुप्प अंधेरी
हाथ को हाथ नहीं दिखता
वैसे में
एक भगजोगनी
सूरज से कम नहीं लगती....
टिमिर टिमिर जलकर
वह दिखाती है राह...
----------------------
पर जब वह
आहिस्ते से आकर
बैठती है देह पर
तो चटाक से हम उसे
कुचल देना चाहते है....

आखिर है तो वह
एक कीड़ा-मकोड़ा ही न...

एक भूमिहार ब्राह्मण रमेश सिंह भला भूख से कैसे मर सकता है...? सबका यही सवाल..

( मैं हूँ ट्विटर पे @arunsathi ) घटना उद्वेलित भी करती है और उद्विग्न भी। मंगलवार की शाम जब यह खबर मिली की भूख और आर्थिक तंगी की वजह से शे...