30 अप्रैल 2014

कल, आज और कल...

सुना है वह
ब्रह्म का अंश और
प्रकाण्ड विद्वान था....

और यह भी कि वह
शिव का उपासक था...

सुना तो यह भी है कि उसने
सोने का नगर बसाया...

और वह
आसमान में सीढ़ी लगा,
स्वर्ग तक
बनाना चाहता था रास्ता....

और सुना है
उसका नाम
रावण था....



योग यात्रा और जीवन

#Selfi on #Yoga #गाँव के #खेत से लाइव साल, दो साल से #योग #ध्यान छूट गया। जीवन की आपाधापी में जब रोजी-रोटी, घर-परिवार, बाल-बच्चे की च...