23 दिसंबर 2017

गौरी, एक प्रेमकथा 2

गौरी, एक प्रेम कथा

गोरिया!! गौरी को गांव के लोग उसी नाम से पुकारते है। गौरी से गोरिया कैसे हो गयी यह कोई नहीं जानता पर माय कहती है कि गौरी के अत्यधिक खूबसूरत होने की वजह से लोग उसे गोरिया कहने लगे। गौरी है भी बहुत खूबसूरत। 

साधारण कद काठी की गौरी हिष्ट पुष्ट है। गोल मटोल चेहरा पे बड़ी बड़ी आंखें है। उसकी आँखों को बिना काजल के आजतक किसी ने नहीं देखा। कमर तक लटके उसके बाल ज्यादातर खुले ही रहते है। गौरी उसे बार बार संभालते हुए परिश्रम करती रहती है। यह उसकी एक अदा है।

दुपट्टा उसकी छति पे कभी टिकना ही नहीं चाहता। वह बार बार सरकता है और गौरी बराबर उसे संभालती है। गौरी सब समझती है। गांव के स्कूल से पांचवीं पास जो है। गांव के लफूये गौरी को फुटबॉलवाबली के नाम से जानते है। रास्ते में कई बार उसे छेड़ते हुए कहते "अरे यार फुटबॉल से खेले के मन है। एक नै दु दु गो से।" पर गौरी जानती है। छेड़छाड़ पे प्रतिक्रिया देने से गांववाले उसे ही दोष देंगे। वह गरीब की बेटी जो है। खैर, गोरिया गांव के मजनुओं की आह बन गयी थी। गोरिया श्रृंगार की बड़ी शौकीन थी। नेल पॉलिस रोज लगाती। दो रुपये का ही सही पर पायल और बिछिया हमेशा उसके खूबसूरत पांव का श्रृंगार बढ़ाती जिसमें एक दर्जन घुंघरू हमेशा संगीत के धुन छेड़ते। सुर ताल के साथ। मजनुओं को उस संगीत प्रेमगीत सुनाई देता। यही प्रेमगीत तो बभनटोली का लफुआ लोहा सिंह का बेटा "बंगड़वा" सुन लिया। "झुन झुन, झुन झुन..! प्रेम धुन! प्रेम धुन! प्रीतम सुन! प्रीतम चुन!" बंगड़वा को यही गीत सुनाई देता। 

बंगड़वा, गांव के चौकीदार लोहा सिंह का एक मात्र पुत्र था। लोहा सिंह, चौकीदार कम और गांव का जमींदार ज्यादा था। उसके भय से गांव के बभनटोली में भी कोई नहीं खोंखता था। कहरटोली में तो खैर लोहा सिंह मालिक ही थे। उनका एक मात्र पुत्र बंगड़वा गांव का भोजपुरी फिल्मी। भोजपुरी सिनेमा का दीवाना। बंगड़वा के खौफ की वजह खन्धे में उसी तरह से लोग भागते थे जैसे जंगल में भेड़िये के आने से सभी जीव जंतु भाग खड़े होते।

बंगड़वा ने गोरिया के रूप सौंदर्य के खूब चर्चे सुने थे। उसका असर भी बहुत था। अब उसको कहीं जाना होता तो उसका रास्ता गोरिया के घर के रास्ते से होकर ही जाता। गोरिया के पायल की झंकार उसके दिल की धड़कन थी। वह महीनों बिना कुछ बोले प्रेम रूपी कमल के उस फूल के खिलने का इंतजार करता रहा जिसकी पंखुड़ी में कैद होना हर भंवरे की पहली और अंतिम अभिलाषा होती है।

बंगड़वा के मन में क्या था वह वही जाने पर धीरे धीरे वह गोरिया से प्रेम करने लगा था। गोरिया को देखे बिना उसका मन उसी तरह तड़फड़ाने लगता जैसे बछिया के लिए उसकी गाय सुबह शाम तड़फड़ाने लगती है। गोरिया पे नजर पड़ते ही उसे लगता जैसे उसके दिल की हवेली में किसी ने भेपरलाईट जला दिया हो। उसके मन में मंदिर का घंटा बजने लगता। टनटन। टनटन।

आज तीन चार चक्कर लगाने के बाद भी गोरिया उसे दिखाई नहीं दी। वह बेचैन हो गया। उसके मन में तरह तरह के विचार आने लगे। जाने क्या हुआ होगा। बंगड़वा वैसे तो गांव का गुंडा माना जाता था और वह गोरिया के घर घुस के भी पता लगा सकता था पर उसके मन के एक कोने में गोरिया और उसके परिवार के प्रति अजीब सा लगाव था। वही लगाव भय का रूप ले चुका था। बंगड़वा को शाम तक गोरिया नहीं दिखी। वह चारा बिन भैंस सा छटपटाने लगा। उसे इस बात का आज एहसास हुआ कि उसे प्रेम हो गया है।

शाम ढलने लगी थी। गोरखिया जानवर को लेकर घर लौट रहे थे। बंगड़वा आज गाय दूहने भी नहीं गया। माय उसको कहाँ कहाँ ढूंढ रही होगी और वह बुढ़वा पीपल के पेंड के नीचे चुपचाप बैठा था। पीपल के पेड़ के पास से भी गांव के लोग शाम ढलने के बाद नहीं निकलते थे। रास्ता काट लेते। किच्चिन का बास था इसमें। जोईया के माय मारने के बाद से इसी पीपल के पेंड पे रहती है। कई लोगों ने देखा है। शाम होते ही उज्जड बगबग साड़ी पहले किच्चिन निकलती है। उसके पायल की आवाज पूरे गांव में गूंजता है। बंगड़वा भी कई बार सुना है। आज उसे किसी बात की परवाह ही नहीं। वह जैसे सुध बुध खो चुका हो। वह टुकटुक गोरिया के घर की तरफ देख रहा है। दूर से ही सही, गोरिया दिखेगी तो वह पहचान लेगा। अंधेरा होने लगा था पर वह टस से मस नहीं हुआ। पता नहीं क्यों उसे लगता गोरिया घर से निकलेगी और अंधेरे में भी चमचम चमकने लगेगी। उसका मन तो यह भी कहता कि गोरिया उसकी दिल की आवाज अवश्य सुन रही होगी। सिनेमा में उसने देखा है। प्रेम निःशब्द होकर भी बोलता है। हीरोइन दिल की आवाज सुन लेती है। उसे भी लगने लगा कि गोरिया आज इसी पीपल के पेड़ के पास सजधज के आएगी और पायल की धुन पे  डांस करेगी....तभी जो उसने सुना और देखा तो उसकी आंखें खुली की खुली रह गयी। जोगिया के माय किच्चिन उसके सामने थी.....

शेष अगले क़िस्त में, इंतजार करिये..

सच है : अयोध्या में हिंदू करा रहे मस्जिद निर्माण

हिंदू आतंकवादी मुस्लिम आतंकवादी इस तरह के राजनीतिक शब्द जालों के बीच उसी अयोध्या में एक सकारात्मक खबर है परंतु इस पर सन्नाटा भी है। अय...