14 दिसंबर 2017

राजसमंद

राजसमंद

एक असुर
हाथ में कुल्हाड़ी ले
काटता है
आदमी को
फिर जला देता है
डालकर पेट्रोल
और बनाता है वीडियो

कई असुर
लगाते है
अट्टहास

गाते है
आसुरी गीत
करते है
आसुरी नृत्य

अरे रुको
झांको तो
अपने अंदर
धर्म ध्वज धारी
कोई असुर
हमारे अंदर भी तो नहीं
मंद मंद मुस्कुरा रहा है...
अरुण साथी/14/12/17

हे केजरीवाल तुम गधा से आदमी कब बनोगे..

हे केजरीवाल तुम गधा से आदमी कब बनोगो.. (डिस्क्लेमर:- यह एक व्यंग रचना है और यह पूरी तरह से काल्पनिक, मनगढ़ंत और एक गधा के द्वारा ही लिख...