सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

बिहारी हैं हम : हमसे है सब बेदम

अरुण साथी

बिहारी होने को लेकर अक्सर चर्चा होती रही है। कभी-कभी सकारात्मक संदर्भ में तो ज्यादातर नकारात्मक संदर्भ में। बाद के दिनों में लालू प्रसाद यादव के गंवई अंदाज को लेकर नकारात्मक संदर्भ में बिहार को उछाला जाता रहा। घोटाला बगैरा से इतर की बातें हैं। खैर, वर्तमान में बात। बिहारी हैं हम। हम से ही सब बेदम के रूप में करना चाहता हूं। 

दरअसल कोरोना काल में हम बिहारियों ने अजीब तरह की प्रतिक्रिया दी है। पहले तो यह कि बाहर में फंसे होने का ऐसा कोहराम मचाया की न्यूज़ चैनल से लेकर अखबारों में यही छाया रहा। व्यक्तिगत अनुभव में यह महसूस किया कि बाहर में फंसे रहने की बातों में भूख की समस्या कम और घर आने की मुमुक्षा सर्वाधिक थी।


होनी भी चाहिए। हम बिहारी गांव में पले बढ़े हैं। होम सिकनेस हमारी कमजोरी है।


 सुबह अगर पटना के लिए निकले तो जैसे तैसे काम खत्म करके घर भाग कर आने की अजीब सी ललक हमारे डीएनए में है। फिर कोरोना काल में घर जाने की ललक भला कैसे नहीं होती! तो ज्यादातर ने भूख से बदहाली की ऐसी हवा उड़ाई की हवा-हवा हो गया। अब इसी हवा-हवाई बातों में असर ऐसा हुआ कि एक हजार किलोमीटर से लेकर ढाई हजार किलोमीटर तक बीवी बच्चों के साथ पैदल चल दिया। तो किसी ने कर्ज लेकर साइकिल खरीदी और घर के लिए निकल गया।


 कोई मोटरसाइकिल कर्ज लेकर खरीदी और दो साथियों के साथ घर आ गया। किसी ने ट्रक का जुगाड़ किया। कंटेनर का जुगाड़ किया। प्रति व्यक्ति 5000 देकर घर तक का सफर किया। ये बातें यह साबित करने के लिए काफी है कि भूख समस्या कम थी, घर आने की मुमुक्षा अधिक। 


नीतीश कुमार अपनी बातों पर अड़े रहे। जहां हो, वहीं रहो। परंतु महाराज जोगी जी ने ऐसा रास्ता खोला कि उपद्रव हो गया। पैदल आने वालों के दर्द को ऐसा दिखाया कि हार कर प्रवासियों को लाने की मजबूरी बनी। नतीजा यहां क्वारन्टीन सेंटर में रखा गया। अब प्रवासी बिहारियों का स्वभाव कहां बदलने वाला था। सो उन्होंने आधा घंटा देर से चाय मिलने पर। नाश्ते में बिस्कुट या सत्तू मिलने पर। खाने में केवल आलू की सब्जी मिलने पर रोड जाम, उपद्रव और हंगामा शुरू कर दिया।


 सरकारी योजना के द्वारा बाल्टी, थाली, मच्छरदानी, बेडशीट नहीं मिलने पर रोड जाम। हंगामा शुरू हो गया। उनको अपनी जान की परवाह कम और सरकारी योजनाओं का लाभ नहीं मिलने का गुस्सा अधिक।


 यह सच है कि बिहार में आपातकाल की स्थिति में आपदा विभाग से मिलने वाले लाभ का 10% भी प्रवासी श्रमिकों को नहीं मिल रहा। अधिकारियों और नेताओं की जेब में पैसा जाएगा। कोई कुछ कर ही नहीं सकता। पूरी तरह से मैनेज मामला लगता है।

 बावजूद इसके हम बिहारी अपनी जान की परवाह कम और छोटी-छोटी बातों के लिए अपनी जान को खतरे में डाल देने की कोशिश ज्यादा करते रहें। भगवान बचाए हम बिहारियों को। हम खुद ही खुद को बदनाम करते हैं। एक बार फिर से हम पूरी दुनिया में बदनाम हुए। कोरोना काल में 5 किलो अनाज के लिए सौ दो सौ की भीड़ सड़क पर हंगामा कर रही। हमारी जान की कीमत बस पांच सेर अनाज है। यह हमारी जहालत है या कुछ और, हम खुद तय करेंगे...

टिप्पणियां

टिप्पणी पोस्ट करें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बलात्कार (कहानी)

उसके बड़े बड़े स्तनों की खूबसूरती छुपाने के लिए सपाटा से उसी प्रकार कस कर बांध दिया जाता है जैसे गदराल गेंहूं के खेत में पाटा चला दिया गया हो। सपाटा रूबिया के माय खुद अपने हाथों सिलती थी। सबसे मोटा कपड़ा देख कर। मजबूत सिलाई और पीछे मोटका बटम भी। तीन चार दिनों में जब भी रूबिया नहाती माय अपने हाथ से उसकी छाती को दबा दबा कर सपाटा के अंदर कस देती। रूबिया के लिए के लिए समीज सलबार पहनना सपनों की बात हो गई। बदरंग सा नाइटी ही उसकी पहनावा बन गयी थी। रूबिया का श्रृंगार उससे छीन लिया गया। बेतरतीब बिखरे बाल। नाक कान का छेदाना भी अपने को कोसता हुआ सा। अब उसके लिए न तो दु रूपैयबा नथुनी थी न ही कनबाली।
सबकुछ छीन लिया गया। यहां तक की पिछले सात सालों से उसे किसी ने हंसते, मुस्कुराते नहीं देखा। कभी कभी चांदनी रात में रूबिया चांद को टुकुर टुकुर देखती रहती। झक सफेद चांद उसे अपना सा ही लगता, और उसके उपर लगे दाग उसे बेचैन करने लगते। एकाएक रूबिया को चांद का रंग लाल नजर आने लगता। खुनिया लाल। उफ! वह डर कर कमरे में भाग जाती।
चटाई पर लेट कर रूबिया रोने लगती, पर उसके आंखों में अब आंसू नहीं आते जैसे उसके खुशियों क…

नेपाल में सबकुछ मिलता है पर मैं हिम्मत न जुटा सका!

गत दिनों नेपाल जाना हुआ वजह कुछ खास नहीं, थोड़ा धूम-फिर लूं बस। वैसे तो नेपाल की खुबसुरती से सभी वाकिफ है और मैं भी था, पर नेपाल की जमीं पर कदम रखते ही जिस बात का एहसास हुआ वह मेरे लिए चौंकाने वाली थी। अपने एक मित्र अभय कुमार के साथ जैसे ही जोगवनी रेलवे स्टेशन उतरकर विराटनगर प्रवेश किया तोे किसी प्रकार की जांच के बिना प्रवेश कर गया और जिस चीज पर पहली नज़र पड़ी वह थी वीयरवार की लंबी कतार और  अधिकतर दुकानों में महिला दुकानदार। मेरे मित्र सबसे पहले वियरवार का ही रूख किया। खैर हमलोग एक वीयरवार में बैठ गए, अभय ने अपने लिए वीयर मंगाया और मेरे लिए ठंढा, क्योंकि उसे पता है कि मैं वीयर नहीं पीता। वीयरवार के संचालक से जैसे ही मैेंने पूछा कि नेपाल में क्या-क्या है की उसके चेहरे पर एक कुटिल मुस्कान छा गई और कहा ``पहली बार आयो हो साहब´´ जब मैेने हां कहा तो उसने कहा ``नेपाल में सब कुछ मिलता है।´´ ``सब कुछ मिलता है´´ मैंने चौंकते हुए पूछा तो उसने नेपाली हिन्दी में कहा ``सब कुछ, मतलब सबकुछ।´´ मैं अभी तक दुकानदार के इशारों को नहीं समझ रहा था, तभी साथ ही बैठा एक युवक जो वीयर का मजा ले रहा था, खड़ी हिन्…

रंडी.......? (आँखों देखी, बुद्धवार को थाने की एक सच्ची घटना)

उसकी आंखों में आँसू थे, खून के आँसू। लाल भभुका। चेहरे पर नफरत और गुस्से के मिले-जुले असर से चेहरा लाल-पीला था। वह  थाने में बैठी थी। उसकी उम्र बाइस साल करीब होगी और उसे दो साल की एक तथा छः माह की एक बेटी भी थी। उसका पति प्रदेश में कमाने के लिए रहता है और वह अपने ससुराल में। वह अपने पड़ोस की देवर के साथ भाग गई थी। पुलिस ने प्रेमी के पिता को उठा कर थाना में बंद कर दिया जिससे घबड़ा कर दोनों थाना में हाजिर हो गए।
उसे देखने के लिए थाना में भीड़ उमड़ पड़ी है। औरत, मरद सब। जो आ रहा है सब उसे गाली दे रहा है और हँस भी रहा है।
‘‘साली रंडी, बाप-माय के इज्जत मिट्टी में मिला देलकै।’’ ‘‘ऐतनै गर्मी हलै त गुप-चुप्प करबइते रहतै हल, भागे के की जरूरत हलै।’’ ‘‘ऐसन सब के काट के गांग में दहा देबे के हई।’’ ‘‘बोल्हो, भतार बाहर रहतै त लंगड़े मिललै हल जेकरा अपने ठीकाना नै हय।’’ ‘‘दूध्ध मुँहा बुतरू के नै देखलकै, रंडिया माय है कि कसाय।’’
जितनी मुँह उतनी बातें। वह अपराधिन की तरह थाना में बैठी थी। निर्लिप्त, निस्पृह। जैस वह पाप, पुण्य से परे हो। जैसे गाली उसे छू ही न रही हो। उसके बाबूजी उसके बच्चे को बोतल से दूध पिला रहे हैं…