22 मई 2010

हत्यारे के पास यदि पैसा हो तो बिहार की पुलिस उसे आराम से घर जाने दे सकती हैं।

शेखपुरा- हत्यारे के पास यदि पैसा हो, बिहार की पुलिस उसे आराम से घर जाने दे सकती हैं। ऐसा ही एक नजारा देखने को मिल रहा है जिले के मेहूस गांव में। मेहूस गांव में डीलर रामानन्द सिंह जब अपने साथियों के साथ गांव के चौपाल पर बैठे थे तभी एक टरक तेज गति से  आते हुए उनके मकान में धक्का मार दिया जिसका विरोध  जब डीलर रामान्नद ने जब इसका विरोध किया तो नशे मे धुत्त चालक ने रॉड से डीलर के सर पर बार कर दिया जिसकी वजह से उसकी मौत हो गई। बाद में ग्रामीणों के सहयोग से जब चालक को पकड़ कर मेहूस थाना पुलिस के हवाले किया तो मेहूस पुलिस ने चालक को नज़राना लेकर फरार कर दिया। इस घटना से गुस्साए लोगों ने मेहूस थाना का घेराव किया तथा रोष जताते हुए थानाध्यक्ष पर कार्यवाई की मांग कर रहे है।

4 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही दुखद और सत्य व न्याय की दर्दनाक अवस्था का चित्रण करती पोस्ट / इस अवस्था को तभी बदला जा सकता है जब हम लोग आने वाले न्यायिक जवाबदेही विधेयक में इस बात को शामिल करवा सकें की किसी भी पुलिस अधिकारी पर अगर अपराधियों से सांठ-गांठ का आरोप लगे तो उस आरोप की सत्यता की जाँच के लिए आरोपी पुलिस अधिकारी और आरोप लगाने वाला दोनों की ब्रेनमेपिंग और लाई डिटेक्टर टेस्ट की व्यवस्था दो महीने के भीतर किया जाना जरूरी हो जिससे न्याय और सत्यमेवजयते को जिन्दा रखा जा सके / दिल्ली में कल पूरे देश के ब्लोगरों के सभा का आयोजन किया जा रहा है जो ,नांगलोई मेट्रो स्टेशन के पास जाट धर्मशाला में किया जा रहा है ,आप सबसे आग्रह है की आप लोग इसमें जरूर भाग लें और एकजुट हों / ये शुभ कार्य हम सब के सामूहिक प्रयास से हो रहा है /अविनाश जी के संपर्क में रहिये और उनकी हार्दिक सहायता हर प्रकार से कीजिये / अविनाश जी का मोबाइल नंबर है -09868166586 -एक बार फिर आग्रह आप लोग जरूर आये और एकजुट हों /
    अंत में जय सब ब्लोगिंग मिडिया और जय सत्य व न्याय
    आपका अपना -जय कुमार झा ,09810752301

    जवाब देंहटाएं
  2. ये बिहार की ही बात नहीं, सारे देश और हम सब का यही हाल है. जैसे की रिश्वत हमारे स्वाभाव में ही आ गयी है.
    लिखते रहो दोस्त, उजागर करते रहो इनके कारनामे

    जवाब देंहटाएं
  3. aaj har jagah sirf paisa bolta hai

    yah post jaroor dekhen

    http://sanjaykuamr.blogspot.com/

    जवाब देंहटाएं

अग्निपथ पे लथपथ अग्निवीर

भ्रम जाल से देश नहीं चलता अरुण साथी सबसे पहले अग्निपथ योजना का विरोध करने वाले आंदोलनकारियों से निवेदन है कि सार्वजनिक संपत्तियों का नुकसान ...