28 मई 2010

झमाझम बारिस

सुबह जैसे ही आंख खुली झमाझम बारिस ने मौसम खुशनुमा बना दिया. काले बदलों ने पूरे आकाश को अपने आगोश में ले लिया बिल्कुल अमावस्या की रात की तरह अंधेरा छा गया. प्यासी धरती खुशी से झूम गई. खेतों में पानी भर आया. किसान खेत की जुताई की तैयारी में जुट गये है. मैं भी धान के बिचरे लगाने वाले खेत की जुताई करबाने जा रहा हूं.

3 टिप्‍पणियां:

  1. यह पूरा आकाश कहां तक है। जहां तक दिखलाई देता है सिर्फ वहीं तक। आकाश वहां से आगे भी है। वैसे दिल्‍ली में भी यही हाल है आकाश का। परन्‍तु नहीं मालूम कितनी दिल्‍ली में। जो दिखता है वो पूरा सच नहीं होता है।

    जवाब देंहटाएं
  2. हमारी शुभकामनाएँ लेते जाईये!!

    जवाब देंहटाएं

अग्निपथ पे लथपथ अग्निवीर

भ्रम जाल से देश नहीं चलता अरुण साथी सबसे पहले अग्निपथ योजना का विरोध करने वाले आंदोलनकारियों से निवेदन है कि सार्वजनिक संपत्तियों का नुकसान ...