03 मई 2014

‘‘एक हाथ में गीता और एक हाथ में कुरान हो’’


‘‘एक हाथ में गीता और एक हाथ में कुरान हो’’
मौका जब मिलो तब हंसके हंसोत ला
दुनिया जब हंसे लगो तब मुड़िया अपन गोत ला।’’
मगही कवि सम्मेलन में कवियों ने बिखेरे जलबे।
बरबीघा, शेखपुरा (बिहार)
‘‘एक हाथ में गीता और एक हाथ में कुरान हो/ऐसा मेरा हिन्दुस्तान हो’’ कवि शफी जानी ‘‘नादाँ’’ की कौमी एकता के इस गीत पर महफिल तालियों की गड़गड़ाहट से गुंज उठी। मौका था मगही कवि सम्मेलन का।
कवि सम्मेलन का मंच संचालन मगही कवि उमेश प्रसाद उमेश ने किया। वहीं कवि उमेश बहादुरपुरी ने अपनी कविता ‘‘कोढ़फुट्टा’’ एवं रणजीत दुधू ने ‘‘मोबाइलबा जी के जंजाल हो’’ से सबको खूब हंसाया। वहीं कवि दयाशंकर बेधड़क ने अपनी कविता ‘‘ मौका जब मिलो तब हंसके हंसोत ला/दुनिया जब हंसे लगो तब मुड़िया अपन गोत ला।’’ के माध्यम से व्यंग वाण छोड़े।
समारोह में मिथलेश, दीनबंधू, उदय भारती, जयराम देवसपुरी, दयाशंकर बेधड़क, मुकेश कुमार ने अपनी अपनी कविता का पाठ किया।
इस मौके पर कवि उमेश बहादुरपुरी की काव्य संग्रह ‘‘माफ कर देना’’ का लोकापर्ण भी किया गया।



मोनू खान

मोनू खान। फुटपाथ पर बुक स्टॉल चलाते वक्त मित्रता हुई और कई सालों तक घंटों साथ रहा। मोनू खान, ईश्वर ने उसे असीम दुख दिया था। वह दिव्यांग था। ...