28 मई 2014

दो पुराने मित्रों का वार्तालाप

मोदी जी बोले- आपको कितनी सीटें मिली, कहिए?
नीतीश बाबू ने कहा - दो।
मोदी बोलो-लो।
मित्रता में यह कैसा संयोग
बनारस और बड़ौदा
मुझको भी सीटें मिली दो
अब आगे क्या करोगे, कहो?

नीतीश बाबू ने कहा- इस्तीफा दूंगा।
बोले मोदी- मित्र,
आपने भले ही भोज का न्यौता दे, बिज्जे गायब किया।
पर मैं मित्र धर्म का पालन करूंगा
और आपके साथ साथ
मैं भी सीएम की कुर्सी से इस्तीफा दूंगा.....
मैं भी सीएम की कुर्सी से इस्तीफा दूंगा.....

1 टिप्पणी:

  1. अब नीतीश बाबू ने क्या कहा?सोच रहे होंगे मोदी ने सारा ही कबाड़ा कर दिया खुद तो तैर गया मुझे डुबो गया

    उत्तर देंहटाएं

जो लोग अपने मां—बाप को प्रेम दे पाते हैं, उन्हें ही मैं मनुष्य कहता हूं..

ओशो को पढ़िए आपने कल माता और पिता के बारे में जो भी कहा , वह बहुत प्रिय था। माता—पिता बच्चों को प्रेम देते हैं, लेकिन बच्चे माता—पिता को प्र...