19 मार्च 2016

रास रंग

गांव से परम्परागत होली की परम्परा अब बिलुप्त हो रही है। फागुन का महीना आते ही पहले गांव की चौपाल पे होली गाने वालों की टीम बैठती थी और रंग जमता था।

उसी पुरानी परम्परा को सहेजने के लिए व्हाट्सएप्प ग्रुप बरबीघा चौपाल ने होली मिलन समारोह का आयोजन किया। इसमें 70 बर्ष से अधिक के बुजुर्ग होली का गायन किया।

समारोह का उद्घाटन शेखपुरा जिलाधिकारी डॉ चंद्रशेखर सिंह ने किया।

साथ ही समारोह में वरीय संगीत साधकों को जिन्होंने संगीत की सेवा की सम्मानित किया गया।

वहीँ गांव के होलैया टीम को ढोलक देकर पुराने होली को बचाने के लिए प्रेरित किया गया।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अग्निपथ पे लथपथ अग्निवीर

भ्रम जाल से देश नहीं चलता अरुण साथी सबसे पहले अग्निपथ योजना का विरोध करने वाले आंदोलनकारियों से निवेदन है कि सार्वजनिक संपत्तियों का नुकसान ...