17 जुलाई 2018

अग्निवेश

#अग्निवेश
(अरुण साथी)







सत्तर साल के बूढ़े
प्रजातंत्र की
पगड़ी छीनी
भगवा कुर्ता फाड़ा
धोती फाड़ी
नंगा किया
और जमीन पे पटक
बूटों तले रौंद दिया

खून से सने
हिटलरी बूट का रंग
भी भगवा ही है
टहटह भगवा..

और उधर
उसी हिटलरी बूट
को पहन कर
कई लोग
अपने अपने घरों से
निकल कर
अट्टहास करने लगे..

हा हा हा...
हा हा हा...




कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

जो लोग अपने मां—बाप को प्रेम दे पाते हैं, उन्हें ही मैं मनुष्य कहता हूं..

ओशो को पढ़िए आपने कल माता और पिता के बारे में जो भी कहा , वह बहुत प्रिय था। माता—पिता बच्चों को प्रेम देते हैं, लेकिन बच्चे माता—पिता को प्र...