02 फ़रवरी 2014

उदास क्यूं हूं मैं..

जानकर भी
सुख/दुख
उदय/अस्त
जय/पराजय
मैं उदास हो जाता हूं..

पूछता हूं
खुद से ही
उदास क्यों हूं मैं?
देता हूं जबाब खुद को ही
आदमी हूं
देवता तो नहीं....

हलाला बनाम बलात्कार

हलाला बनाम बलात्कार (अरुण साथी) पिता समान ससुर से सेक्स की बात को मजहब के आड़ में हलाला बता सही ठहराते हो हो शैतान और तुम मुल्ले-मौ...