02 फ़रवरी 2014

उदास क्यूं हूं मैं..

जानकर भी
सुख/दुख
उदय/अस्त
जय/पराजय
मैं उदास हो जाता हूं..

पूछता हूं
खुद से ही
उदास क्यों हूं मैं?
देता हूं जबाब खुद को ही
आदमी हूं
देवता तो नहीं....

रंडीबाज

रंडीबाज (लघुकथा, एक कल्पकनिक कथा। इस कहानी से किसी व्यक्ति या संस्था को कोई संबंध नहीं है) चैत के महीने में अमूमन बहुत अधिक गर्मी नहीं होत...