17 फ़रवरी 2014

जद्दोज़हद



सुदूर गावों में दो वक्त की रोटी वमुश्किल मिलती है। इसी रोटी की खातिर बांस, फूस और मिट्टी से दुकान बनाती एक महिला।
और मेरे चाँद शब्द......

जिंदगी तुम हो तो क्या तुम हो।
जी कर तुझे, तेरी औकात बताते है हम।।

सिर्फ महलों में तेरा बसेरा नहीं।
झोपड़ियों में भी तुझे खींच लाते है हम।।

अरे साला रिक्शा

अरे साला रिक्शा नगर के जाम में रिक्शा के आगे अपनी बाइक लगा कर जाम लगाने के अपराधबोध से मुक्त युवक ने सीधा सीधा रिक्शा चालक को गाली देनी शुर...