14 फ़रवरी 2014

अच्छा लगता है...(वेलेन्टाइन स्पेशल)

यूँ ही बिना वज़ह हसरतों का मचलना।
यूँ ही बिना वज़ह गुलों का खिलना।।
अच्छा लगता है।

यूँ ही खुशबू की तरह बिखरना।
यूँ ही झरनों की तरह गिरना।
अच्छा लगता है।

यूँ ही भौरें की तरह मचलना।
यूँ ही परवाने की तरह जलना।
अच्छा लगता है।

यूँ ही आहें भरना।
यूँ ही रात भर जगना।
अच्छा लगता है।

यूँ ही किसी के ख्वाबों में खोना।
यूँ ही किसी की आगोश में होना।
अच्छा लगता है।

यूँ ही किसी का दर्द सहना।
यूँ ही किसी का बनना।
अच्छा लगता है।

यूँ ही किसी पे मरना।
यूँ ही किसी से प्यार करना।
अच्छा लगता है।

गुरुदेव ओशो ने मुझे आदमी बनाया..

गुरुदेव ओशो ने मुझे आदमी बनाया...गुरु पूर्णिमा पे नमन #ओशो (अरुण साथी) किशोरावस्था में गुरुदेव #ओशो आशीर्वाद मुझे "मिट्टी का दीया&quo...