30 दिसंबर 2014

हिन्दू तालिबानी













अगर हम चुप रहे तो
एक दिन यहां भी
मार दी जाएगी गोली
मलाला को...

अब वो कहते हैं
रोटी मत मांगों,
मत मांगो
हक
सच की अभिव्यक्ति का...

और अंधविश्वास को
मान लो,
मान लो
उस भगवान को
जिसने की थी
हत्या गांधी की
और गोडसे की मंदिर में
करो प्रार्थाना,
मिले साहस
"हे राम"
कहते हुए
आदमी के सीने में
गोली मारने की...

और अब वही लोग कर रहे है
प्रयत्न
मार देने का
सत्य, अहिंसा, प्रेम और
सर्व धर्म समभाव की विचारधारा को....

और ऐसे में हम सब को डरा रहे है वो
हे भारतपुत्र
लाज बचाना
इन हिन्दू तालिबानियों से
डर मत जाना...
डर मत जाना...

रंडीबाज

रंडीबाज (लघुकथा, एक कल्पकनिक कथा। इस कहानी से किसी व्यक्ति या संस्था को कोई संबंध नहीं है) चैत के महीने में अमूमन बहुत अधिक गर्मी नहीं होत...