04 मार्च 2015

होली मिलन में अदभुत नजारा

बरबीघा में आयोजित होने वाले होली मिलन में अदभुत नजारा देखने को मिलता है जहां डाक्टर, प्रोफेसर, पत्रकार, शिक्षक और गायक कलाकार जुटते है और परम्परागत होली गीतों पर झूमते-नाचते है। होली मिलन मे एक भी शराबी नजर नहीं आते और आनंद ही आनंद लुटते लुटाते हैं...
होली मिलन में जहां पुर्व प्राचार्य डा0 नागेश्वर सिंह ने अपने कथित सौतेले मित्र प्रो0 सुधीर मोहन शर्मा को जबदस्त चुम्मी लेकर दिल तो बच्चा है जी को प्रमाणित किया वहीं सुधीर मोहन शर्मा ने अपनी बढ़ती उम्र की जानकारी देकर सबसे हंसाया। मंच संचालन कर रहे डा0 के पुरूषोत्म ने जमकर रंग जमाया और अपनी शेरो शायरी से होली मिलन की शाम को रंगीन कर दी। वहीं डा केएमपी ने अपने अंदाज से सबको गुदगुदाया। वही डॉ भावेश चन्द्र पाण्डेय ने सबको प्रभावित किया..

समारोह में गायक कलाकार प्रभाकर त्रिवेदी, सुधीर, दीपक, चांदनी, अमरकांत, रजनीश, निरंजन सहित ने अपनी प्रस्तुति दी। यह आयोजन dr प्रेमलता सिंह के यहाँ की गयी







ओशो के विचार: सुखी रहने के सफल मंत्र

ओशो के विचार, सुखी रहने का सफल मंत्र ** दुख पर ध्यान दोगे तो हमेशा दुखी रहोगे, सुख पर ध्यान देना शुरू करो। दअसल, तुम जिस पर ध्यान देते हो...