18 मार्च 2015

शून्य की एक तस्वीर...



शून्य की ओर निहारती इस तस्वीर को जब से मैंने कैद किया तब से सोंच रहा हूँ कि संत ऐसे ही तो होते होंगे ...

जाने क्यों बुजुर्ग के इस चेहरे में मुझे किसी संत के होने की झलक मिलती है ।

----

शून्य हो जाना 

संत हो जाना है

सुख.दुःख 

आकांछा

अभीप्सा

और

मान.अपमान 

के आदम दुर्गुणों

से दूर होना

आदमी का संतत्व है ....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

जो लोग अपने मां—बाप को प्रेम दे पाते हैं, उन्हें ही मैं मनुष्य कहता हूं..

ओशो को पढ़िए आपने कल माता और पिता के बारे में जो भी कहा , वह बहुत प्रिय था। माता—पिता बच्चों को प्रेम देते हैं, लेकिन बच्चे माता—पिता को प्र...