17 अप्रैल 2015

खौराहा कुत्ता ( व्यंग्य)

गाँव-देहात में यह बात सभी लोग जानते है कि गाँव में खौराहा कुत्तों का एक गिरोह होता है जो किसी शरीफ को गाँव में घुसने नहीं देते , उसपे झंझुआ के टूट पड़ते है । झंझुआहट में वो इतना हल्ला करते की पास से गुजरने वाला कोई भी सहम जाये ।
***
एक खूबी यह भी होती है की वह जोर जोर से भौंकता है । इतना ही नहीं जब कोई मजबूत दुश्मन सामने हो तो वह और जोड़ से भौंकता है । वह अपने बड़े बड़े केनाइन दाँत को जबड़ा जान से ज्यादा फार के दिखता है ताकि सामने वाले को लगे की यह खतरनाक है । पर एक बात किसी को पता नहीं होता की खौराहा कुत्ता चाहे जितना जोर जोर से भौंके और बड़े बड़े दन्त दिखाए पर वह अपनी दुम हमेशा पिछुआड़े में दबाये रखता है । 
***
खौराहा कुत्तों की जमात बहुत पवार फुल होती है पर सभी भौंकने की कला में ही केवल माहिर नहीं होते है बल्कि वो भ्रष्टाचार, चोरी, बेईमानी और धर्म और जाति के नाम पे मार काट करने की कला में भी पारंगत होते है । 
इन खौराहा कुत्तों के द्वारा गाँव में किसी शरीफ आदमी को धुसने नहीं दिया जाता है और चोर उचक्कों को इनके द्वारा दुम दबा कर स्वागत किया जाता है । गांव में जब भी कोई चोर घुसता है बेचारे निकल लेते है और जैसे ही कोई शरीफ आदमी घुसा नहीं की ये ऐसे भौंकने लगते है जैसे प्रलय आने वाली हो ।
***
अब आपको अपने आस पास खौराहे कुत्ते नजर आने लगे है तो इसमें मेरा कोई दोष नहीं बस आप डरिये नहीं क्योंकि ये केवल भौंकते है, काटते नहीं...

सोशल मीडिया छोड़ो सुख से जियो, एक अनुभव

सोशल मीडिया छोड़ो, सुख से जियो, एक अनुभव अरुण साथी पिछले कुछ महीनों से फेसबुक एडिक्शन (सोशल मीडिया एडिक्शन) से उबरने के लिए संघर्ष करना पड़ा...