24 अप्रैल 2015

बूढ़ा बरगद

बचपन का एक बड़ा हिस्सा इसी की गोद में बीता है और जाने कितनी ही यादों को समेटे हुए यह आज भी खिलखिला रहा है । हालाँकि अब यह बूढ़ा हो गया है पर जैसे ही इसके करीब गया तो लगा की इसने मुझे पहचान लिया है । एक अपनापन है मुझे इस बूढ़े बरगद से । जैसे यह भी कोई अपना ही हो; आत्मीय...
******
इसकी गोद में बचपन का असीम सुख पाया ।
इसकी हवा में झूलती जड़ों ने हमें झूला झुलाया ।
***
माँ सी विशाल हृदय शाखाओं ने चैन से सुलाया ।
माँ की मार से बचने के लिए दिन भर छुपाया ।।
***
जेठ की गर्मी और भादो की बारिस से हमें बचाया ।
पशु-पंछी, बूढ़ा-बुतरू, सबने यहाँ जीवन गीत गाया ।।

एचएम और शिक्षक सरकारी स्कूल में पी रहे थे ताड़ी, शिक्षक ने मिलाया जहर

सरकारी स्कूल में नशीला पदार्थ आया ताड़ी, शिक्षक ने मिलाया जहर शेखपुरा बिहार में शिक्षा व्यवस्था का हाल बदहाल है। सरकारी स्कूल में प्रधानाध्...