03 अप्रैल 2015

बेटी के साहस और संघर्ष को सलाम

बरबीघा (बिहार)
बेटी, ममता, त्याग की प्रतिमूर्ति ही नहीं साहसी भी होती है । ऐसा देखने को मिला तोयगढ़ गांव में जहाँ एक बेटी ने अरेंज मैरेज में तिलक के बाद लड़का का एक हाथ कट जाने पर अगले ही दिन परिवार के विरोध के बावजूद उसी से शादी की और उसकी सेवा में जुट गयी । 

यह साहसी बेटी विजय सिंह की पुत्री संध्या (ग्रेजुएट) है जिसने भागलपुर के सुल्तानगंज के निजी कम्पनी में इंजिनियर सौरभ से शादी की । दरअसल 20 मार्च को सौरभ का तिलक हुआ और 22 को रिस्तेदार को ट्रेन चढ़ाने के क्रम में उनका एक हाथ पूरी तरह कट गया । यह जानकारी संध्या के परिवार को मिली तो सबने तिलक का पैसा वापस लेकर दूसरी जगह शादी करने की सोंची पर स्वाति ने सबसे कहा की 26 को शादी हो जाती और फिर ऐसा होता तो आप क्या करते? मेरी किस्मत में इसी से शादी लिखी है तो इसी से करुँगी और 24 को पटना में इलाज के दौरान ही मंदिर में शादी हो गयी । संध्या का लड़के से एक दो बार ही मोबाइल से बात हुयी थी और उसने प्रेम, करुणा, त्याग, सहास और संघर्ष की ऐसी मिशाल पेश की कौन इसको सलाम नहीं करेगा......

वोट बैंक में बदला धर्म लोकतंत्र का जहर

वोट बैंक में बदला धर्म लोकतंत्र का जहर अरुण साथी ताजिया को अपने कंधे पर उठाए मेरे ग्रामीण युवक बबलू मांझी रात भर जागकर नगर में घूमता रहा। ...