27 जनवरी 2016

सड़क बुहारती भंगी स्त्री

सड़क बुहारती
भंगी स्त्री
बहुत अच्छी लगती है

उसकी ललाट पे सजी
बड़ी-बड़ी चमकीली बिंदी

उसके कानों में झूलते
बड़े-बड़े स्वर्ण झुमके

गलों में इठलाता
स्वर्ण माला
कमर पे करघनी

चमेली की तेल से चुपड़े
गुच्छेदार गुन्धें
फुदने लगे बाल

बड़े-बड़े छापे वाले
फूलदार साड़ी
उससे मैच करती
चोली कट ब्लाउज

बहुत अच्छी लगती है
उसकी अधरों पे
सदा-सर्वदा
बसती मुस्कान
उसकी शक्ति स्वरुपा
भुजाएं
हृष्ट-पुष्ट कमर
सुधड़-सुडौल बक्ष

और
सबसे अच्छी लगती है
उसका स्वाबलंबन ..



रंडीबाज

रंडीबाज (लघुकथा, एक कल्पकनिक कथा। इस कहानी से किसी व्यक्ति या संस्था को कोई संबंध नहीं है) चैत के महीने में अमूमन बहुत अधिक गर्मी नहीं होत...