30 जनवरी 2016

गोडसे का रक्तबीज

गोडसे रक्तबीज
***
जरुरी नहीं कि
भगवान सबको
सम्मति ही दें!

जरुरी नहीं
सबकी
विचारधारा
धार्मिकता
जातियता
सामान हो..

वैचारिक विभेद
प्रजातंत्र है
मानवीय है...

अमानवीय है
मतभेदों को
मारने की मंशा रखना 
या कि
मार ही देना..

गोडसे का रक्तबीज
कहीं मुझमें भी तो नहीं..
खोजो, पकड़ो, सोंचो..

(कोर्ट में हँसते गोडसे की तस्वीर देखकर)

वोट बैंक में बदला धर्म लोकतंत्र का जहर

वोट बैंक में बदला धर्म लोकतंत्र का जहर अरुण साथी ताजिया को अपने कंधे पर उठाए मेरे ग्रामीण युवक बबलू मांझी रात भर जागकर नगर में घूमता रहा। ...