25 दिसंबर 2015

पापी कौन है?

भगवान् यीशु
एक प्रसंग है कि कुँवारी गर्भवती युवती को पापिन होने की सजा देते हुए समाज के लोग बीच चौराहे पे पत्थर मारने की सजा देते है ।

इसी बीच यीशु आते है और कहते है कि पहला पत्थर वही मारे जिसने कोई पाप न किया हो। यह सुन पहला पत्थर किसी ने नहीं मारा।
**
यीशु आज अगर यह बात कहते तो सभी एक साथ ही पहला पत्थर मार देते।

सोशल मीडिया इसका उदाहरण है। यहाँ हर कोई साधू ही है पर पता नहीं दुनिया में फिर चोर कौन है?
@अरुण साथी/बरबीघा/बिहार

वोट बैंक में बदला धर्म लोकतंत्र का जहर

वोट बैंक में बदला धर्म लोकतंत्र का जहर अरुण साथी ताजिया को अपने कंधे पर उठाए मेरे ग्रामीण युवक बबलू मांझी रात भर जागकर नगर में घूमता रहा। ...