30 दिसंबर 2009

उत्तर भारत का तिरूपती बनेगा सामस का विष्णुधाम।

शेखपुरा जिले बरबीघा थाना क्षेत्र के सामस गांव में स्थित है विष्ण की यह
आदमकद प्रतिमा। यह प्रतिमा तिरूपती में स्थित बाला जी प्रतिमा से एक फीट
अधिक उंची है तथा इसकी उंचाई सात फिट छ: इंच है जिसकी वजह से यह विश्व
में पूजी जाने वाली विष्णु की सबसे उंची प्रतिमा है। यह प्रतिमा 1992 में
तलाब की खुदाई के क्रम में निकली थी जिसके बाद ग्रामीण स्तर पर एक मंदिर
बनाया गया तथा इसको लेकर अभियान चलाया जाने लगा। आखिरकर बिहार धार्मिक
न्यास बोर्ड के अध्यक्ष किशोर कुणाल की नजर इस पर पड़ी और इसको लेकर पहल
प्रारंभ कर दिया गया और आखिरकर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने यहां
आकर लोगों को अश्वस्त किया कि इसका विकास पर्यटक क्षेत्र के रूप में किया
जाएगा। इस प्रतिमा की खासीयत यह है कि यह पाल काल का बना हुआ बताया जाता
है तथा विष्णु के हाथ में शंख, चक्र, गदा और पद्म भी है। इसके विकास को
लेकर स्थानीय सांसद भोला िंसह के द्वारा भी संसद में सवाल उठाया गया था।
ठसी को लेकर उत्तर बिहार के तिरूपती कहे जाने वाले जिले के बरबीघा के
सामस गांव में स्थित विष्णु की भव्य प्रतिमा को देखने तथा यहां पर्यटन की
संभावनाओं को तलाशने के लिए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने यहां का
दौरा किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रतिमा स्थल को विकसीत कर
उसे पर्यटन क्षेत्र के रूप में विकसीत करने का आश्वासन दिया। मुख्यमंत्री
ने अपने संबोधन में कहा कि बिहार के तिरूपती के रूप में विकसीत कर इस
क्षेत्र के विकास को लेकर अगले माह में पटना में एक विशेष बैठक बुलाई
जाएगी जिसमें मंदिर विकास कमिटि के लोग, जिला प्रशासन, स्थानीय
जनप्रतिनिधी तथा धार्मिक न्यास बोर्ड के अध्यक्ष के अलावा पुरात्तव से
जुडे लोगों के साथ बैठक कर मंदिर के विकास की रूपरेख तय की जाएगी।

कविवर को नमन

किसान (कविता) / मैथिलीशरण गुप्त हेमन्त में बहुदा घनों से पूर्ण रहता व्योम है पावस निशाओं में तथा हँसता शरद का सोम है हो जाये अच्छी भी फसल...