सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

मच्छर और आदमी का अनुवांशिक संबंध

मच्छर और आदमी का अनुवांशिक संबंध

अरुण साथी की व्यंग रचना

मच्छरों का मस्तिष्क आदमी से अधिक विकसित है और उसकी बुद्धि भी! आपको विश्वास नहीं होता तो विश्वास कर लीजिए नहीं तो एहसास कर लीजिए। जैसे कि वैज्ञानिक शोधों से यह पता लग चुका है कि मच्छरों पर एक तरह के जहर का प्रभाव एक बार ही होता है। दूसरी बार वह अपने शरीर में प्रतिरोधक क्षमता बढ़ा कर उस जहर का काट खोज लेता है। और तो और आप मच्छरदानी लगा कर भी शायद ही मच्छरों से बच सकते हैं। उसने इतनी बुद्धि विकसित कर ली है कि मच्छरदानी लगाने के बाद भी वह उसके इर्द-गिर्द मंडराता रहता है। उसकी धैर्य की भी प्रशंसा आप कर सकते हैं। मंडराते-मंडराते वह एक-आध छिद्र को ढूंढ ही लेता है और फिर अपने आप को बुद्धिमान समझने वाले आदमी का खून का स्वाद आनंद से लेता है। इसी बात की चर्चा हो रही थी कि अपने मघ्घड़ चाचा ने बताया कि अन्यायालय के अन्यायाधीश के आदेश पर हुए वैज्ञानिक शोधों से यह प्रमाणित हो चुका है कि मच्छरों का अनुवांशिक संबंध घोटालेबाज आदमियों से है।

देश का खून चूसने में ये लोग मच्छरों के अनुवांशिक गुण की वजह से ही सफल हो पाते हैं और इनके ऊपर एक तरह का जहर का प्रभाव दूसरी बार नहीं होता और ये कानून को ठेंगा दिखा देते हैं। साथ ही साथ सुरक्षा को लेकर आप चाहे जैसी भी घोटदानी लगाइए कहीं ना कहीं छिद्र खोज कर देश का खून चूस ही लेंगे।

इसको लेकर मच्छरों के सरदाररणी ने याचिका दायर कर देश का खून चूसने वाले नेताओं, नौकरशाहों,धन्नासेठों, करोड़ीमलों और टुटपुंजियों आदमियों का डीएनए टेस्ट कराने की मांग की थी जिसमें डीएनए मैच कर गया। इसी याचिका के आधार पर उसने देश के खून चूसने वालों की संपत्ति में अपनी हिस्सेदारी की मांग की है। उसने कहा कि निर्लज्ज मोदी, विजय मलाई, लल्लू लाल, कलमार कबाड़ी, कन्नीमुंहझौंसी, डिफेक्टिव राजा, हर्षित मैला जैसे लोगों की संपत्ति में उसको हिस्सा दिया जाए। उसने कहा है कि वैसे तो सभी आदमियों के डीएनए उनसे मैच करता है परंतु कुछ आदमी मौके की ताक में इंतजार करते रहते हैं। जब तक उचित मौका नहीं मिले वे घोटालेबाजी नहीं करते। उसने बताया कि जिस तरह डेंगू, मलेरिया इत्यादि कई प्रकार के मच्छरों की प्रजाति होती है उसी तरह से घोटालेबाजों की अलग-अलग प्रजाति पाई जाती है।

यह सुनते ही अपने चाचा भी समझ गए कि उनको इस उम्र में अभी तक मौका ही नहीं मिला है ..जय सियावर रामचंद्र की जय..

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

बलात्कार (कहानी)

उसके बड़े बड़े स्तनों की खूबसूरती छुपाने के लिए सपाटा से उसी प्रकार कस कर बांध दिया जाता है जैसे गदराल गेंहूं के खेत में पाटा चला दिया गया हो। सपाटा रूबिया के माय खुद अपने हाथों सिलती थी। सबसे मोटा कपड़ा देख कर। मजबूत सिलाई और पीछे मोटका बटम भी। तीन चार दिनों में जब भी रूबिया नहाती माय अपने हाथ से उसकी छाती को दबा दबा कर सपाटा के अंदर कस देती। रूबिया के लिए के लिए समीज सलबार पहनना सपनों की बात हो गई। बदरंग सा नाइटी ही उसकी पहनावा बन गयी थी। रूबिया का श्रृंगार उससे छीन लिया गया। बेतरतीब बिखरे बाल। नाक कान का छेदाना भी अपने को कोसता हुआ सा। अब उसके लिए न तो दु रूपैयबा नथुनी थी न ही कनबाली।
सबकुछ छीन लिया गया। यहां तक की पिछले सात सालों से उसे किसी ने हंसते, मुस्कुराते नहीं देखा। कभी कभी चांदनी रात में रूबिया चांद को टुकुर टुकुर देखती रहती। झक सफेद चांद उसे अपना सा ही लगता, और उसके उपर लगे दाग उसे बेचैन करने लगते। एकाएक रूबिया को चांद का रंग लाल नजर आने लगता। खुनिया लाल। उफ! वह डर कर कमरे में भाग जाती।
चटाई पर लेट कर रूबिया रोने लगती, पर उसके आंखों में अब आंसू नहीं आते जैसे उसके खुशियों क…

नेपाल में सबकुछ मिलता है पर मैं हिम्मत न जुटा सका!

गत दिनों नेपाल जाना हुआ वजह कुछ खास नहीं, थोड़ा धूम-फिर लूं बस। वैसे तो नेपाल की खुबसुरती से सभी वाकिफ है और मैं भी था, पर नेपाल की जमीं पर कदम रखते ही जिस बात का एहसास हुआ वह मेरे लिए चौंकाने वाली थी। अपने एक मित्र अभय कुमार के साथ जैसे ही जोगवनी रेलवे स्टेशन उतरकर विराटनगर प्रवेश किया तोे किसी प्रकार की जांच के बिना प्रवेश कर गया और जिस चीज पर पहली नज़र पड़ी वह थी वीयरवार की लंबी कतार और  अधिकतर दुकानों में महिला दुकानदार। मेरे मित्र सबसे पहले वियरवार का ही रूख किया। खैर हमलोग एक वीयरवार में बैठ गए, अभय ने अपने लिए वीयर मंगाया और मेरे लिए ठंढा, क्योंकि उसे पता है कि मैं वीयर नहीं पीता। वीयरवार के संचालक से जैसे ही मैेंने पूछा कि नेपाल में क्या-क्या है की उसके चेहरे पर एक कुटिल मुस्कान छा गई और कहा ``पहली बार आयो हो साहब´´ जब मैेने हां कहा तो उसने कहा ``नेपाल में सब कुछ मिलता है।´´ ``सब कुछ मिलता है´´ मैंने चौंकते हुए पूछा तो उसने नेपाली हिन्दी में कहा ``सब कुछ, मतलब सबकुछ।´´ मैं अभी तक दुकानदार के इशारों को नहीं समझ रहा था, तभी साथ ही बैठा एक युवक जो वीयर का मजा ले रहा था, खड़ी हिन्…

रंडी.......? (आँखों देखी, बुद्धवार को थाने की एक सच्ची घटना)

उसकी आंखों में आँसू थे, खून के आँसू। लाल भभुका। चेहरे पर नफरत और गुस्से के मिले-जुले असर से चेहरा लाल-पीला था। वह  थाने में बैठी थी। उसकी उम्र बाइस साल करीब होगी और उसे दो साल की एक तथा छः माह की एक बेटी भी थी। उसका पति प्रदेश में कमाने के लिए रहता है और वह अपने ससुराल में। वह अपने पड़ोस की देवर के साथ भाग गई थी। पुलिस ने प्रेमी के पिता को उठा कर थाना में बंद कर दिया जिससे घबड़ा कर दोनों थाना में हाजिर हो गए।
उसे देखने के लिए थाना में भीड़ उमड़ पड़ी है। औरत, मरद सब। जो आ रहा है सब उसे गाली दे रहा है और हँस भी रहा है।
‘‘साली रंडी, बाप-माय के इज्जत मिट्टी में मिला देलकै।’’ ‘‘ऐतनै गर्मी हलै त गुप-चुप्प करबइते रहतै हल, भागे के की जरूरत हलै।’’ ‘‘ऐसन सब के काट के गांग में दहा देबे के हई।’’ ‘‘बोल्हो, भतार बाहर रहतै त लंगड़े मिललै हल जेकरा अपने ठीकाना नै हय।’’ ‘‘दूध्ध मुँहा बुतरू के नै देखलकै, रंडिया माय है कि कसाय।’’
जितनी मुँह उतनी बातें। वह अपराधिन की तरह थाना में बैठी थी। निर्लिप्त, निस्पृह। जैस वह पाप, पुण्य से परे हो। जैसे गाली उसे छू ही न रही हो। उसके बाबूजी उसके बच्चे को बोतल से दूध पिला रहे हैं…